Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

Athwara Baba Bullhe Shah

छनिछरवार

दोहरा-
छनिछरवार उतावले, वेख सज्जन दी सो।
असां मुड़ घर फेर ना आवणा, जो होयी होग सो हो।

वाह वाह छनिछरवार वहेले, दुख सज्जन दे मैं वल पेले,
ढूंडां औझड़ जंगल बेले, ओहड़ा रैन कवल्लड़े वेले,
बिरहों घेरियां।

घड़ी तांघ तुसाडियां तांघां, रातीं सुत्तड़े शेर उलांघां,
उच्ची चड़्ह के कूकां चांघां, सीने अन्दर रड़कन सांगां,
प्यारे तेरियां।

ऐतवार

दोहरा-
ऐतवार सुनेत है, जो जो कदम धरे।
उह वी आशक ना कहो, सिर देंदा उज़र करे।

ऐत ऐतवार भायत, विच्चों जाय हिजर दी सायत,
मेरे दुक्ख दी सुनो हकायत, आ इनायत करे हदायत,
तां मैं तारियां।

तेरी यारी जही ना यारी, तेरे पकड़ विछोड़े मारी,
इशक तुसाडा क्यामत सारी, तां मैं होईआं वेदन भारी,
कर कुझ कारियां।

सोमवार

दोहरा-
बुल्ल्हा रोज़ सोमवार दे, क्या चल चल करे पुकार।
अग्गे लक्ख करोड़ सहेलियां, मैं किस दी पाणीहार।

मैं दुख्यारी दुक्ख सवार, रोना अक्खियां दा रुज़गार,
मेरी ख़बर ना लैंदा यार, हुन मैं जातां मुरदे हार, मोयां नूं मारदा।

मेरी ओसे नाल लड़ाई, जिस ने मैनूं बरछी लाई,
सीने अन्दर भाह भड़काई, कट्ट कट्ट खाय बिरहों कसाई,
पछायआ यार दा।

मंगलवार

दोहरा-
मंगल मैं गल पानी आ ग्या, लबां ते आवणहार।
मैं घुंमन घेरां घेरियां, उह वेखे खला किनार।

मंगल बन्दीवान दिलां दे, छट्टे शहु दर्यावां पांदे,
कपड़ कड़क दुपहरीं खांदे, वल वल ग़ोत्यां दे मूंह आंदे,
मारे यार दे।

कंढे वेखे खला तमाशा, साडी मरग उन्हां दा हासा,
दिल मेरे विच्च आया सू आसा, वेखां देसी कदों दिलासा,
नाल प्यार दे।

बुद्धवार

दोहरा-
बुद्ध सुद्ध रही महबूब दी, सुद्ध आपनी रही ना होर।
मैं बलेहारी ओस दे, जो खिच्चदा मेरी डोर।

बुद्ध सुद्ध आ ग्या बुद्धवार, मेरी ख़बर ना लए दिलदार,
सुक्ख दुक्खां तों घत्तां वार, दुक्खां आण मिलायआ यार,
प्यारे तारियां।

प्यारे चल्लन ना देसां चल्या, लै के नाल ज़ुलफ़ दे वल्या,
जां उह चल्या तां मैं वल्या, तां मैं रक्खसां दिल विच रल्या,
लैसां वारियां।

जुंमेरात

दोहरा-
जुंमेरात सुहावणी, दुक्ख दरद ना आहां पाप।
उह जामा साडा पहन के, आया तमाशे आप।

अग्गों आ गई जुंमेरात, शराबों गागर मिली बरात,
लग्ग ग्या मसत प्याला हात, मैनूं भुल्ल गई ज़ात सफ़ात,
दीवानी हो रही।

ऐसी ज़हमत लोक ना पावन, मुल्लां घोल तवीज़ पिलावण,
पड़्हन अज़ीमत जिन्न बुलावन, सईआं शाह मदार खिडावण,
मैं चुप्प हो रही।

जुंमा

दोहरा-
रोज़ जुंमे दे बखशियां, मैं जहियां अउगणहार।
फिर उह क्युं ना बखशशी, जेहड़ी पंज मुकीम गुज़ार।

जुंमे दी होरों होर बहार, हुन मैं जाता सही सतार,
बीबी बांदी बेड़ा पार, सिर ते कदम धरेंदा यार,
सुहागन हो रही।

आशक हो हो गल्लां दस्सें, छोड़ मशूकां कंै वल्ल नस्सें,
बुल्ल्हा शहु असाडे वस्सें, नित्त उठ खेडें नाले हस्सें,
गल लग्ग सो रही।

जुंमे दी होरो होर बहार।
जुंमे दी होरो होर बहार।

पीर असां नूं पीड़ां लाईआं, मंगल मूल ना सुरतां आईआं,
इशक छनिछर घोल घुमाईआं, बुद्ध सुद्ध लैंदा नहींउं यार।
जुंमे दी होरो होर बहार।

पीर वार रोज़े ते जावां, सभ पैगम्बर पीर मनावां,
जद पिया दा दरशन पावां, करदी हार शिंगार।
जुंमे दी होरो होर बहार।

मन्नतक मान्हे पड़्हां ना असलां, वाजब फ़रज़ ना सुन्नत नकलां,
कंम किस आईआं शर्हा दियां अकलां, कुझ नहीं बाझों दीदार।
जुंमे दी होरो होर बहार।

शाह इनायत दीन असाडा, दीन दुनी मकबूल असाडा,
खुब्बी मींढी दसत परांदा, फिरां उजाड़ उजाड़।
जुंमे दी होरो होर बहार।

भुल्ली हीर सलेटी मरदी, बोले माही माही करदी,
कोयी ना मिलदा दिल दा दरदी, मैं मिलसां रांझन यार।
जुंमे दी होरो होर बहार।

बुल्ल्हा भुल्ला नमाज़ दुगाना, जद दा सुण्यां तान तराना,
अकल कहे मैं ज़रा ना माना, इशक कूकेंदा तारो तार।
जुंमे दी होरो होर बहार।

 
 
 
 
 
 Hindi Kavita