Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Aate Dian Chirian Shiv Kumar Batalvi in Hindi

आटे दीआं चिड़ियां शिव कुमार बटालवी

आटे दीआं चिड़ियां

चाननी रात 'च
सुत्ती इक पहाड़ी बसती
कसम तेरी मेरे दोसत बड़ी प्यारी है
उह वेख ! तां दो दूर पहाड़ां वल्ले
ज्युं बाल-विधवा किसे काम-मत्ती ने
नज़र बचा के आपनी नज़र दी आहट तों
डरदी डरदी ने हिक्क उभारी है ।

उन्हां च वेख ज़रा अटकी होई चिट्टी बदली
ज्युं ताज़ी नागां ने कुंज उतारी है
ज्युं काला-हारी दी हबशन ने
चिट्टी चादर दी झुम्ब मारी है ।

तूं सुन तां सही :
तुन्द हवावां दी आवाज़
किन्नी मिट्ठी ते न्यारी है
जीकणां ज़िद्दी किसे न्याने ने
आ के ग़ुस्से दे विच सने चूरी
कैंह दी कौली वगाह के मारी है
सुत्ती इह पहाड़ी बसती
कसम तेरी मेरे दोसत, बड़ी प्यारी है ।

मैं नहीं चाहुन्दा
कि तूं दुखी होवें
मैं नहीं चाहुन्दा कि मैं दुखी होवां
बीते वर्हआं दी लाश दे मूंह तों
चुक्क यादां दा रेशमी कफ़न
मैं नहीं चाहुन्दा भविक्ख विच रोवां
मैं तां चाहुन्दां, दिल दी गोजी 'चों
ग़मां दा कोरड़ू रहे छण्यां
मैं तां चाहुन्दां माहौल रहे बण्यां
साडी मिलनी दी सोन-बेड़ी 'ते
ख़ुशी दा बादबां रहे तण्यां
मैं तां चाहुन्दां कि बदलियां फड़ीए
घुट्ट चानन दा सीत पी मरीए
तड़ागी उफ़क दी, पाई जो अरशां ने
उहदे च तार्यां दे नग जड़ीए
टुरी जांदी हवा है देश जेहड़े
देश ओसे नूं टुर चल्लीए ।

दिल है चाहुन्दा, किते वी ना खड़्हीए
बीड़ बिरहों दी अति पवित्तर दा
मैं तां चाहुन्दां कि पाठ ना धरीए
मैं तां चाहुन्दां कि वाक ना लवीए
रात सारी हराम ना करीए ।

पर तूं हाले वी यार, ज़िद करदैं
ते मेरी दोसती दा दम भरदैं
तूं सच्ची कहन तों पर बहुत ड्रदैं
है नफ़रत ज्युंदिआं दे नाल मैनूं
मैं मोयां नूं अजे वी प्यार करदां ।

बड़ा लोभी है रूह दा बाणियां मेरा
इहदे लई हौक्यां दा वनज करदां
इहदे लई भालदा हां रोज़ हूरां
कि छन्ना काम दा मैं रोज़ भरदां
मैं लभ्भदां महक कलियां कच्चियां दी
ते भौरा होन तों वी नाल ड्रदां ।

बड़े शरम दी है गल्ल यारा
कि सच्च दी जीभ 'ते अंगार धरदां
उमर नूं पीन लई तेज़ाब देंदां
ते नाले मशकरी सम्यां नूं करदां ।

मैं चाहुन्दां अक्क वी हुन्दा चम्बेली
मैं थोहरां दा मरूआ नाम धरदां
हकीकत नाल रज्ज के वैर करदां
सदा ही झूठ दा वी इहतराम करदां
है तेईए ताप वाकन इशक मेरा
जदों वी वकत लग्गा आण चढ़दा ।

ज़रा तूं नीझ नैणीं मार मेरे
रसौंती छल्ल्यां जो खा लए ने
इह मेरे झिंमणां दी सुबक टाहणी
कि हिंझां आल्हने सै पा लए ने
मेरे साहां च बदबू सिगरटां दी
ते मूसल हौक्यां 'ते ला लए ने ।

वधी दाड़्ही इह मेरी शाम रंग दी
जिद्हे विच वाल दूधी आ गए ने
समें दी धूड़ ने रंग खा लए ने
समें दे पैर नूं नहीं मोच आउणी
ज़माने वाह लक्खां ला लए ने
वे महंगे पन्न्यां तों पल हज़ारां
मुहब्बत दी वे झूठी चील्ह कामण
मेरे हत्थां 'चों खोह के खा लए ने ।
है डिग्गी खंभड़ी इको अजे तां सीस उत्ते
ते आने तितलियां परता लए ने ।
उह ! टुरदे चन्न दे वल्ल मार झाती
है दाग़ो-दाग़ होई जिसदी छाती
किसे गौतम रिशी दी नार ख़ातर
ने कहन्दे : एस दी सी लोय गवाची
सी अक्खर कुन्न दे तों काम पहलां
है विगासी काम 'चों हर इक हयाती
मैं मन्नदां काम डाढा ही बली है
जे इस विच चेतना वी होए बाकी ।

मेरी महबूब नूं तूं जाणदा हैं
है वगदी कूल्ह चानन विच नहाती
ज्युं वादी दो पहाड़ां दे विचाले
इहदे तों वी हुसीं है उस दी छाती
उहदे साहां च मस्स्या है गवाची
उहदी देह 'चों आवे इउं सुगंधी
कंवल-फुल्ल ज्युं सरां 'चों खान हाथी
है गोरा रंग जीकन शाम वेले
बरफ़ दे नाल लद्दी कोई घाटी
सलेटी नैन घुग्गियां वांग उहदे
उहदे बुल्ल्हां च उग्गे बण-कपासी ।

उहदे हत्थां च गिद्धा मालवे दा
उहदे पैरां च माझे दी विसाखी
करां की सिफ़त उहदी टोर वाली
ज्युं कच्ची सड़क उत्ते टुरे डाची
रता नहीं शक्क मैनूं ओस बारे
है काले बाग़ दी सावी इलाची
मैं फिर वी दोसता महसूसदा हां
कि भर के रक्ख लां चानन दी चाटी
वे मित्तरा चाननी दी छिट्ट बाझों
कदे नहीं न्हेर्यां दी हिक्क पाटी
गिला की जे भला उह बेवफ़ा है
गिला की जे नहीं जनमां दी साथी ।

मेरा विशवास है कुझ इस तर्हां दा
मुहब्बत तों वी महंगी है हयाती
मुहब्बत दीन है, दुनियां नहीं है
है दुनियां दीन दे पिंडे छपाकी
मुहब्बत घाट है बस दो पलां दी
जदों तक्क ख़ून दे विच है सेक बाकी
मुहब्बत काम दे बूटे दा फ़ल है
कि जीकन चेत विच फुल्ले पटाकी
मुहब्बत काम दा ही इक पड़ाय है
ते शायद काम दा ही नां ख़ुदा है
ख़ुदा दी ज़ात कोलों वद्ध कोई
ना मेरे दोसता कोई बे-वफ़ा है ।

मैं अकसर इस तर्हां वी सोचदा हां
कि सारे जीव-जंतू ते प्राणी
इह वण-त्रिन पौन, मिट्टी, अग्ग, पाणी
है सारी काम 'चों उपजी कहाणी
है बद्दल रिड़कदी नित्त काम ख़ातर
ऐ मेरे दोसत ! पौन दी मधाणी
इह रुक्ख वी ने भोग करदे
वे टाहली नाल जद खहन्दी है टाहणी
बरफ़ संग बरफ़ जद है भोग करदी
तां नीलम जनमदा है मेरे हाणी
ते तितली भोग फुल्लां दे ख़ातर
है फुल्ल तों फुल्ल तक्क उडदी निमाणी
इह श्रिसटी सूरजे संग काम ख़ातर
है घुंमदी वीनसे दी नित्त जठानी ।
ज़ुहल ते यूरेनस दी इह दराणी
वे मेरे दोसता ! वे मेहरबाना
इह श्रिसटी काम दे हत्थों है कानी ।

वे मेरे दोसता ! वे वेख वीरा !
मुहब्बत मूंग्यां दा है जज़ीरा
हवस दे सागरीं जो तर रिहा है
ते आपने आप कोलों डर रिहा है ।

मुहब्बत जिगर है इक ओस मां दा
जिद्हा सूतक दे विच ही मरे बच्चा
ते सड़ जाए दुधनियां विच दुद्ध कच्चा
ना होए पीड़ दा पर सेक मट्ठा ।

ते मैं समझदां इह सभ्भे कुड़ियां
इह आटे संग बणाईआं हैन चिड़ियां
जिन्हां संग वरच जांदै काम-बच्चा
इह शायद रात अज्ज दी चाननी जेही
होए तैनूं भासदी कोई ज़रद पत्ता
ते मेरे वासते इह रात अज्ज दी
हे मेरे दोसता ! कोई सुआणी
कि जिस दी ढाक 'ते है चन्न-बच्चा
जो कुज्जा छाछ दा सिर 'ते टिकाई
ते गल विच बुगतियां दा हार पाई
है लै के जा रही चाननी दा भत्ता
मैं इह जाणदां :
हैं तूं वी सच्चा ।

मैं इह जाणदां ।
हां मैं वी सच्चा
असल विच रूह मनुक्ख दी शील नूंह है
कि जिस दा बदन वत्त सिंमल दे रूं है
तुख़ई्ईयल दे वे दूहरे घुंड विचों
सदा ही दिसदा रहन्दा जिस दा मूंह है
ते दिल दामाद हुन्दा है मनुक्ख दा
जो साह ना लैन देंदा है वे सुक्ख दा
जो सेहरे बन्न्ह के वी शुहरतां दे
है थुक्कां मोढ्यां तों रोज़ थुक्कदा
है सोहनी उस कदर दी ज़िन्दगानी
कि जिन्नी होए तसव्वर विच जवानी
किसे लई कालखां दा है समुन्दर
किसे लई इतर-भिन्नी अरगवानी ।

वे बहुता कीह मैं इको जाणदा हां
कोई वी शै नहीं इस दे सानी
तूं जाणें सुआद सारे सागरां दा
है मैं वी दर-बदर दी ख़ाक छानी ।
तूं कहन्दैं प्यार नां विशवास दा है
ते जां फिर त्रिपतियां दी आस दा है
मुहब्बत असल ख़ातर तरसदी है
मुहब्बत नां ही इक धरवास दा है
मुहब्बत आपनी 'ते शक्क करना
इह जज़बा वासना दी प्यास दा है ।

मुहब्बत रुकमणी, ना दामनी है
ना पदमा, हसतनी, ना कामनी है
मुहब्बत नां ग़मां दी रास दा है
ना पुत्तर धी, ना माई बाप दा है
ते मेरे वासते मैं समझदा हां
मुहब्बत नां ही चिट्टे मास दा है ।

इह मैं हुन समझदां कि जान दईए
उह सुन कोई दूर चशमा गा रिहा है
आ, आवाज़ दा अनन्द लईए
उह साहवें वेख चील्हां ते चनारां
उन्हां दी गोद विच आ चल्ल के बहीए
ते रल के हीर दा कोई बैंत कहीए
उलांभे ते गिले सभ जान दईए
ते थोहड़े कु पलां लई चुप्प रहीए ।
ते थोहड़े कु पलां लई चुप्प रहीए ।

बीही दी बत्ती

मेरी बीही दी इह बत्ती
मेरी बीही दी इह बत्ती
सहमी सहमी ऊंघ रही है
अंमृत वेले मट्ठी मट्ठी
उनींदे मारी वेसवा वाकण
मरियल मरियल, थक्की थक्की
मेरी बीही दी इह बत्ती ।

मेरी बीही दी इह बत्ती
बत्ती नहीं, बीही दी अक्खी
बड़ी ड्राउनी टीर-मटक्की
बीही जेहड़ी ढट्ठी ढट्ठी
बीही जेहड़ी सारी कच्ची
किसे शराबी दी मां वाकण
दब्बी दब्बी घुट्टी घुट्टी
जो ना बोले ड्रदी उच्ची
माड़ी माड़ी भुस्सी भुस्सी
रोगी मेरी त्रीमत वाकण
जेहड़ी बच्चा जंम के उट्ठी
हत्थों सक्खनी कन्नों बुच्ची ।
इस बीही दे मत्थे उत्ते
इह बत्ती चमगादड़ वाकण
लटक रही है हो के पुट्ठी
मैले शीशे संग लौ इस दी
ईकन टक्करां मार रही है
जीकन कोई ज़ख़मी मैना
होवे पिंजरे दे विच डक्की
ज़िन्दगानी दी तलख़ी कोलों
मेरे वाकन अक्की अक्की
मेरी बीही दी इह बत्ती ।

मेरी बीही दी इह बत्ती
बत्ती नहीं बीही दी बच्ची
काला न्हेरा चुंघ रही है
सिर बीही दी हिक्क 'ते रक्खी
नव-जंमे मेरे बच्चे वाकण
हौली-हौली मट्ठी-मट्ठी
इह बीही इहदी अम्बड़ी सक्की
इह बीही मेरी अम्बड़ी सक्की
इस बीही साडी उमरा कट्टी
इह बीही साडी बेलन पक्की
इस बत्ती दा पीला चेहरा
कई वारी मैनूं लग्गदा मेरा
कई वारी किसे ख़ूनी जिन्न दा
जेहड़ा अम्बर जेड उचेरा
जां फिर बण जाए हत्थ हिनाई
जेहड़ा छापां छल्ले पाई
मेरे वल्ले वधदा आवे
विंहदिआं विंहदिआं सओला जेहा
मेरी धी दा हत्थ बण जावे
फिर उह हत्थ छुडा के मैथों
जावे इक मुंडे संग नस्सी
अद्धी रातीं चोरी छप्पी
मेरी ग़ुरबत कोलों अक्की
मेरी बीही दी इह बत्ती ।

मेरी बीही दी इह बत्ती
बत्ती नहीं चानन दी चक्की
नहीं नहीं मोई बीही दा ज्युं
कीता होवे दीवा-वट्टी
बिट्ट बिट्ट पई है वेखी जांदी
आपनी मोई अम्बड़ी बारे
मैं जो कविता लिख के रक्खी
दिन चढ़दे जो वेच दिआंगा
आपनी धी दे दन्दां जिन्ने
लै के पूरे दमड़े बत्ती
इह बत्ती है बिलकुल बच्ची
इह की मोयां दा सिर जाणे
ग़ुरबत मां दी वी नहीं सक्की
मेरी बीही दी इह बत्ती
सहमी सहमी ऊंघ रही है
अंमृत वेले मट्ठी मट्ठी
उनींदे मारी वेसवा वाकण
मरियल मरियल, थक्की थक्की
मेरी बीही दी इह बत्ती ।

इक शहर दे नां

अज्ज असीं
तेरे शहर हां आए
तेरा शहर, ज्युं खेत पोहली दा
जिस दे सिर तों पुन्न्यां दा चन्न
सिंमल रुक्ख दी फम्बी वाकण
उड्डदा टुर्या जाए ।

इह सड़कां 'ते सुत्ते साए
विच विच चितकबरा जेहा चानण
जीकन होवे चौंक पूर्या
धरती शैंत नहा के बैठी
चन्न दा चौंक गुन्दा के जीकण
होवन वाल वधाए ।

अज्ज रुत्तां ने वटना मल्या
चिट्टा चन्न व्याहआ चल्ल्या
रुक्खां दे गल लग्ग लग्ग पौणां
ईकर शहर तेरे 'चों लंघण
जीकन तेरे धरमी बाबल
तेरे गौन बिठाए ।

सुत्ता घुक मोतीए रंगा
चानन धोता शहर ए तेरा
जीकन तेरा होवे डोला
अम्बर जीकन तेरा वीरा
बन्न्हे बाहीं चन्न-कलीरा
तारे सोट कराए ।

अज्ज दी रात मुबारक तैनूं
होए मुबारक अज्ज दा साहआ
असीं तां सहर तेरे दी जूह विच
मुरदा दिल इक दब्बन आए
शहर कि जिस दे सिर तों पीला
चन्न निरा तेरे मुखड़े वरगा
सिंमल रुक्ख दी फम्बी वाकण
उड्डदा टुर्या जाए
जिस नूं पीड़ न्यानी मेरी
माई-बुढ्ढी वाकन फड़-फड़
फूकां मार उडाए
भज्ज भज्ज पोहली दे खेतां विच
अज्ज असीं
तेरे शहर हां आए ।

मेरा कमरा

इह मेरा निक्का जिन्ना कमरा
इह मेरा निक्का जिन्ना कमरा
दर्याई मच्छी दे वाकण
गूहड़ा नीला जिस दा चमड़ा
विच मिट्टी दा दीवा ऊंघे
जीकन अलसी दे फुल्लां 'ते
मंडलांदा होए कोई भंवरा
इह मेरा निक्का जिन्ना कमरा ।
इस कमरे दी दक्खनी कंध 'ते
कंध 'ते नहीं कमरे दे दन्द 'ते
मेरे पाटे दिल दे वाकण
पाटा इक कलंडर लटके
किसे मुसाफ़र दी अक्ख विच पए
गड्डी दे कोले वत्त रड़के
फूक दिआं जी करदै फड़ के
कासा फड़ के टुर्या जांदा
ओस कलंडर वाला लंगड़ा
जिस दे हत्थ विच है इक दमड़ा ।

ख़ौरे फिर क्युं दिल डर जांदै
सिगरट दे धूंएं संग निक्का
इह मेरा कमरा झट्ट भर जांदै
फिर डूंघा सागर बण जांदै
विंहदिआं विंहदिआं नीला कमरा
इस सागर दियां लहरां अन्दर
मेरा बचपन अते जवानी
कोठा-कुल्ला सभ रुड़्ह जांदै
साहवीं कंध 'ते बैठा होया
कोहड़ किरलियां दा इक जोड़ा
मगरमच्छ दा रूप वटाउंदै
मेरे वल्ल वधदा आउंदै
इक बांह ते इक लत्त खा जांदै ।

ओस कलंडर दे लंगड़े वत्त
मैं वी हो जांदा मुड़ लंगड़ा
आपनी ग़ुरबत दे नां उत्ते
मंगदा फिरदां दमड़ा दमड़ा
फिर मेरा साह सुक्कन लग्गदै
हड्ड हड्ड मेरा टुट्टन लग्गदै
मोईआं इल्लां कन्न-खजूरे
अक्क दे टिड्डे छपड़ी कूरे
मोए उल्लू, मोए कतूरे
खोपड़ियां चमगादड़ भूरे
ओस कलंडर वाला लंगड़ा
मेरे मूंह 'ते सुट्टन लग्गदै
गल मेरा फिर घुट्टन लग्गदै
मेरा जीवन मुक्कन लग्गदै
फेर अजनबी कोई चेहरा
मेरे नां 'ते उस लंगड़े नूं
दे देंदा है इक दो दमड़ा
फेर कलंडर बण जांदा है
ओस कलंडर वरगा लंगड़ा
इह मेरा निक्का जिन्ना कमरा
दर्याई मच्छी दे वाकण
गूड़्हा नीला जिस दा चमड़ा
इह मेरा निक्का जिन्ना कमरा ।

चरित्र-हीण

साउन मांह दी सांवली
सिल्ल्ही है शाम
पी के टुर्या हां
घरों मदरा दा जाम
साउन मांह दी सांवली
सिल्ल्ही है शाम ।

हलके कुत्ते दी
ज़ुबां जही सड़क 'ते
ताज़ा वस्से मींह दियां
इह छपड़ियां
ज्युं पुराने उज्जड़े
किसे महल दी
छत्त ते रींगण
हज़ारां मक्कड़ियां
जां जिवें हबशण
किसे दे मुक्ख 'ते
होन गहरे पै गए
चीचक दे दाग़ ।
जां दमूंहां
कौडियां वाला कोई नाग
किन्ने कोझे ते ड्राउणे
उफ़ ! मेरे हन इह ख़ाब ।

उमर दे पंझी वर्हे
दिन सवा कु नौं हज़ार
केहड़े मकसद वासते
आख़िर ने दित्ते मैं गुज़ार ?
केहड़े मकसद वासते
एने मैं सूरज खा लए
सिर एनियां रातां दा भार
शायद इस लई : वेख सकां
हर नज़र दे आर पार
नित्त किसे देही 'ते सकां
काम दा मैं डंग मार
दुनियां दी जां हर हुसीना
दे सके मैनूं प्यार
वेख सकां ओस दे
मैं जिसम नंगे दा उभार
उफ़ ! मैं किन्ना कमीना
किन्ने गन्दे हन विचार ।

किन्ना गन्दा जेहन मेरा
किन्ना गन्द सोचदां
आपने हत्थ नूं ही आपणा
हत्थ लाणों रोकदां
इक किणके तों खुदा तीकण
मैं कामी मन्नदां
मां दे दुद्ध नूं
मैं गरम करके पीना लोचदां
मेरे हत्थ विच, जिन्हां विच
धरुवां जिन्नी ठंढ है
सोचदा हां इन्हां बारे
इस तर्हां कुझ सोचदां
मेल इन्हां दे 'चों होवे
जनम किस लई सेक दा
मैं तां ऐसे सेक नूं वी
काम पक्खों वेखदां
मैं तां कहन्दा : काम है ही
सेक दा आनन्द है
चाहे उह सूरज है कोई
चाहे उह कोई चन्द है
चाहे दीवा जां चिंगाड़ी
नज़र तों वी मन्द है
काम दो चीज़ां दी मिलनी दी
उपज दा रंग है ।

सोचदां इह सड़क कंढे
नव-बने महलां दी लाम
मैले मैले कीड़े लग्गे
दन्दां वत्त जो मुसकराण
वेसवा जेही सड़क दे
है ज्युं बच्चे हराम
उफ़ ! इह बेजान महलां
विच वी किन्ना है काम
गोल रौशनदान
अक्खां वांग पए हन चमकदे
लंम सलंमियां बारियां
वांग होठां मुसकराण
सोचदां कि महल
महलां नूं पए ने चुंमदे
लै के विच गलवक्कड़ी
कैफ़्यां नूं टुरे जाण
उफ़ ! मैं किन्ना शैतान
सोचनी किन्नी हराम ।

बदलियां 'चों
अरध नंगा सूरज
कर रिहा झुक के
है कुझ एदां सलाम
सोने दे कोई दन्द वाली
कन्न फ़ाहशा
मुसकरावे भर के ज्युं
नज़रां च काम
साउन मांह दी सांवली
सिल्ल्ही है शाम ।
साउन मांह दी सांवली
सिल्ल्ही है शाम ।

मां

मां
हे मेरी मां !
तेरे आपने दुद्ध वरगा ही
तेरा सुच्चा है नां
जीभ हो जाए माख्ओं
हाए नी तेरा नां ल्यां
जे इजाज़त दएं तां मैं इक वारी लै लवां
माघी दी हाए सुच्चड़ी
संगरांद वरगा तेरा नां
मां तां हुन्दी है छां
छां कदे घसदी ते ना
मां
हे मेरी मां !

मां
हे मेरी मां !
तूं मेरी जणनी नहीं
मैं हकीकत जाणदां
तेरा मेरा की है रिशता
एस बारे की कहां ?
ग़म दे सहरावां च भुज्ज्या
मैं हां पंछी बे-ज़ुबां
दो कु पल जे दएं इजाज़त
तेरी छावें बैठ लां
छां कदे घसदी ते ना
मां,
हे मेरी मां !

मां
हे मेरी मां !
जाणदां, मैं जाणदां, मैं जाणदां
अजे तेरे दिल च है
ख़ुशबो दा हड़्ह
उमर मेरी दे वर्हे
हाले जवां
ठीक ही कहन्दी हैं तूं अंमड़ीए
रत्त रत्ती
काम दी हुन्दी है मां
पर मैं अंमीएं इह कहां
रत्त ठंढी होन विच
लग्गेगा अंतां दा समां
करन लई कीड़ी नूं जिन्ना
शायद भू-परदक्खणा
कीह भला एने समें
पिच्छों है जंमदी इक मां
झूठ बकदा है जहां
मां तां हुन्दी है छां
छां कदे घसदी ते ना
मां
हे मेरी मां !

मां
हे मेरी मां
तोते दी अक्ख वांग टीरा
है अजे साडा जहां
भेड दे पीले ने दन्द
कुत्ते दी इहदी ज़ुबां
करदा फिरदा है जुगाली
काम दी इह थां कुथां
बहुत बकवासी सी इहदे
प्यु दा प्यु
बहुत बकवासन सी इहदी
मां दी मां
एथे थोहरां वांग
उग्गदा है शैतां
मां तां हुन्दी है छां
छां कदे घसदी ते ना
मां,
हे मेरी मां !

मां
हे मेरी मां !
मिरगां दी इक नसल दा
कसतूरियां हुन्दा है नां
कसतूरियां नूं जनम देंदी
है जदों उन्हां दी मां
पालदी है रक्ख के
इक होर थां, इक होर थां
फेर आउंदा है समां
करम-हीने बच्च्यां नूं
भुल्ल जांदी है उह मां
मां-वेहूने पहुंच जांदे
ने किसे ऐसी उह थां
जिथे किधरे चुगन पईआं
होन रल के बक्करियां
बक्करियां वी करदियां ना
चुंघणों उन्हां नूं नांह
मां तां हुन्दी है मां
पशू तों माड़ी नहीं
तेरा मेरा की है रिशता
एस बारे की कहां ?
मां तां हुन्दी है छां
छां कदे घसदी ते ना
तेरे सुच्चे दुद्ध वरगा ही
तेरा सुच्चा है नां
मां,
हे मेरी मां !

टिड्डी दल

नीम सांवली
गरड़ वत्त नीली
सावण-रंगी सड़क विच पक्की
सूतक-भिट्टी नार दे वाकण
मेरे पिंड दिआं पट्टां उत्ते
सुत्ती घूक है सिर नूं रक्खी
पीड़ां भन्नी थक्की थक्की
सावण-रंगी
सड़क इह पक्की

एस सड़क दी हिक्क मसलदा
बूटां थीं इहदा अंग अंग दलदा
मोढे रक्ख, बन्दूकां चलदा
मैले सावे रंगां वाला
टिड्डी दल इक लंघ रिहा है
मिट्ठी चुप्प मेरे खेतां दी
रौला पा पा डंग रिहा है
टिड्डियां वांग रींगदे टैंकां दी
उच्ची इक धमक दे कारन
मेरा पिंड मुरब्ब्यां वाला
हौली-हौली कम्ब रिहा है
टिड्डी दल इक लंघ रिहा ए ।

हुने हुने इस किनारे
मेरे पिंड दियां छिन्दियां पौणां
खट्टियां दे फुल्लां गल लग्ग के
रांझे दे कन्नां दियां मुन्दरां
वरगे फुल्ल शरींह दे चुंम के
लुकन मीची खेड रहियां सन ।

पर हुण
इन्हां दे साह अन्दर
फैल ग्या बदबू दा सागर
डूंघे मेरे दोमाहले खूहीं
डिग्ग पई सोने दी गागर

इह की होया ?
इह की होया ?
सारा पिंड मेरे ख़ाबां विच
सड़ बल के है कोले होया ।
लाह गईआं रुक्खां दी छिल्लां
उड्डन अम्बरीं गिद्ध ते इल्लां
लड़न बिल्लियां रोवन कुत्ते
उल्लू पए मचावन खिल्लां
घुंमन थां-थां लक्ख चुड़ेलां
पिट्ठां उत्ते थण लमकाई
पुट्ठे लंमे पैरां दे विच
थोहरां दे पत्त्यां दियां स्युं के
ठिब्ब-खड़िब्बियां जुत्तियां पाई
खोपड़ियां दे बोहलां विचों
लंघे पौन फराटे भरदी
शां शां करदी
हौके भरदी ।

थां पुर थां
टिड्डियां दियां हेड़ां
करन इकट्ठियां हड्डां दियां ढेरां
हड्डियां दे ढेरां विच सूवण
लक्ख लक्ख बच्चा देन अकेरां
इह टिड्डियां धरमां घर जाईआं
इह टिड्डियां कौमां घर जाईआं
इह टिड्डियां काम तेहाईआं
इह टिड्डियां जंगां नूं साईआं
इह टिड्डियां हद्दां परनाईआं
मानुखता दियां लवियां फ़सलां
इन्हां रल मिल मार मुकाईआं
अज्ज खड़्हा इस सावण-रंगी
सड़क किनारे सोच रिहा हां ।

नीम सांवली
गरड़ वत्त नीली
सावण-रंगी सड़क विच पक्की
जंग विच होई विधवा वाकण
फिरदी पई है लत्थ-भलत्थी
आपने भुक्खे बच्चे वाकण
मेरे पिंड नूं ढाके चक्की
सावण-रंगी सड़क इह पक्की
सावण-रंगी
सड़क इह पक्की ।

बनवासी

मैं बनवासी, मैं बनवासी
आया भोगन जून चुरासी
कोई लछमन नहीं मेरा साथी
ना मैं राम अयुद्ध्या वासी
मैं बनवासी, मैं बनवासी ।

ना मेरा पंच-वटी विच डेरा
ना कोई रावन दुशमन मेरा
कणक-ककई्ई मां दी ख़ातिर
मैथों दूर वतन है मेरा
पक्की सड़क दी पटड़ी उत्ते
सौंदिआं दूजा वर्हा है मेरा
मेरे ख़ाबां विच रोंदी है
मेरी दो वर्हआं दी काकी
जीकन पौन सरकड़े विचों
लंघ जांदी है अद्धी राती
मैं बनवासी, मैं बनवासी ।

कोई सुगरीव नहीं मेरा महरम
ना कोई पवन-पुत्त मेरा बेली
ना कोई नख़ा ही काम दी ख़ातिर
आई मेरी बनन सहेली ।

मेरी तां इक बुढ्ढी मां है
जिस नूं मेरी ही बस्स छां है
दिल भर थुक्के दिक्क दे कीड़े
जिस दी बस्स लबां 'ते जां है
जां उहदी इक मोरनी धी है
जिस दे वर लई लभ्भनी थां है
जां फिर अनपड़्ह बुढ्ढा प्यु है
जो इक मिल विच है चपड़ासी
ख़ाकी जिद्हे पजामे उत्ते
लग्गी होई है चिट्टी टाकी
कोई भीलनी नहीं मेरी दासी
ना मेरी सीता किते गवाची ।

मेरी सीता करमां मारी
उह नहीं कोई जनक दुलारी
उह है धुर तों फाक्यां मारी
पीली पीली माड़ी माड़ी
जीकन पोहली मगरों हाड़्ही
पोले पैरीं टुरे विचारी
जनम जनम दी पैरों भरी
हाए ! गुरबत दी उच्ची घाटी
कीकन पार करेगी शाला
उहदी त्रीमत-पन दी डाची ?
हक्क संग ला के मेरी काकी ?
इह मैं अज्ज कीह सोच रिहा हां
क्युं दुखदी है मेरी छाती ?
क्युं अक्ख हो गई लोहे-लाखी
मैं उहदी अगन प्रीख्या लैसां
नहीं, नहीं, इह तां है गुसताखी
उस अग्ग दे विच उह सड़ जासी
मेरे ख़ाबां विच रोंदी है
मेरी दो वर्हआं दी काकी
हर पल वधदी जाए उदासी
जीकन वर्हदे बद्दलां दे विच
उड्डदे जांदे होवन पंछी
मट्ठी मट्ठी टोर निरासी
मैं बनवासी, मैं बनवासी ।

राख़ दानी

इह काली मिट्टी दी राख़-दानी ।
इह काली मिट्टी दी राख़-दानी ।
इउं हौली-हौली पई है धुखदी
कि जिवें विधवा कोई विच जवानी
इह काली मिट्टी दी राख़-दानी ।

ज्युं काली माता, ज्युं मां भवानी
जो पीड़ मेरी दे ज़िद्दी बच्च्यां दा
ख़ून नीला हाए पीन ख़ातर
खड़्ही है मुद्दत तों विच हैरानी
फड़ के धूं दी अलफ़-हुसैनी
कोई पा के चोला हाए असमानी
बड़े ड्राउने जां पंछी वरगी
अक्खां मुन्दी ते हिक्क तानी ।

जां प्यु लंमूबे दी धी अंञाणी
जो बाप आपने दी मौत पिच्छों
आपनी मां दी हुसीन गोदी 'च
घूक सुत्ती है भुक्खी-भाणी
ते सुत्ती सुत्ती इह कह रही है-
इह युग्ग किन्ना है अगरगामी
है किन्नी ज़िल्लत अजे वी बन्दा
बन्दे अग्गे करे ग़ुलामी ।

जां राख़-दानी दा मोर-पंखी
वलेवें खांदा सिगरटी धूंआं
कि जिवें किधरे वीरान थावें
कोई रुक्ख सफैदे दा होए अलूंआं
ज्युं इच्छ्याधारी कोई सप्प दमूंहां
जां ज्युं सरोवर 'चों सांवली जेही
नहा के निकली कोई जवानी
ते कंढे खड़्ह के सुकाए पाणी
बीमार जेही तवीत पहनी ।

इह राख़-दानी, बियर दी बोतल
इह मेज़ होटल दे सागवानी
इह ओहो बैरे ते ओहो चेहरे
इह ओहो बक बक ते कुत्ते खाणी
बेहे प्याज़ां दी बू पुरानी ।

उफ़ ! किन्नी ही है वीरानी
रौले-रप्पे दी गहरी दलदल 'च
मेरे वाकन है धस्सदी जांदी
इह शाम सूही ते अरग़वानी
इह राख़-दानी, इह राख़-दानी
ज्युं रात काली कोई तूफ़ानी
कि जिस च चमके कोई ना तारा
स्याह पुलाड़ां दे राह दी बानी
उफ़ ! किन्नी ही है ड्राउनी ।

ओ बैरा ! बिल्ल लै आ
ते चुक्क लै एथों इह राख़-दानी
इह तां मैनूं इउं है लग्गदी
हज़ार मैगाटन बम्ब वाकन ज्युं
मेज़ मेरी 'ते फट है जाणी
ते ख़ाली होई बियर दी बोतल
ज्युं बण के राकट है उड्ड जानी ।

चुक्क लै एथों इह ख़ाली बोतल
ते काली मिट्टी दी राख़-दानी ।
जो हौली-हौली पई है धुख़दी
कि जिवें विधवा कोई विच जवानी
इह काली मिट्टी दी राख़-दानी ।
इह काली मिट्टी दी राख़-दानी ।

हजड़ा

रात अद्धी आर
अद्धी पार है :
सोच मेरी वांग ही
बेज़ार है
इह तां मैनूं इउं पई है भासदी
मेरे वाकन मरद है नार है ।
रात अद्धी आर
अद्धी पार है ।

गली गली चुंमने पुत्तर पराए
किस कदर होछा जेहा रुज़गार हाए
वेल पिच्छों सद्द ला के आखणा
वेल तेरी होर वी दाता वधाए ।

किस कदर
असचरज दी गल्ल हाए
इक मांगत राज्यां नूं ख़ैर पाए
हाए ना दाता समझ आए ।

मेरी आपनी वेल खुद बे-कार है
इह धुरां तों
ज़रद ते बिमार है
एस नूं ना फुल्ल
ना कोई ख़ार है ।
मेरे लई है अजनबी कुक्खां दी पीड़
प्यार दी मैनूं भला की सार है ?
लोरियां देणा
तां इक रुज़गार है
काम दी जां पूरती दा आहर है
रात अद्धी आर
अद्धी पार है
मेरे वाकन मरद है नार है ।

हाए मैनूं
किस गुनाह दी इह सज़ा ?
ना मैं आदम
ते ना ही मैं हव्वा
काम दा हुन्दा है ख़ौरे कीह मज़ा ?
आखदे ने -
काम हुन्दा है खुदा
काम विच हुन्दा है लोजड़े दा नशा
पर इह मैनूं की पता ।

काम दे द्युते दी
मैनूं तां धुरों ही मार है
जिसम मेरा राम-लील्हा दा
कोई किरदार है
जिस दे हत्थ विच
काठ दी तलवार है
चमकदी है पर ना कोई धार है
झूठा मूठा करना जिस ने वार है
रात अद्धी आर
अद्धी पार है
मेरे वाकन मरद है नार है ।

हे मना !
ना होर लंमी सोच कर
सोच लंमी सन्न्ह लानी समें नूं
समें नूं तां सन्न्ह लानी पाप है ।
समां ही तां ज़िन्दगी दा बाप है ।
उट्ठ
कि सारे ने साथी सौं रहे
सुपन्यां दे शहर सभ्भे भौं रहे
ज़िन्दगी इक काम
दूजे कंम बिन
हे मना बे-कार है, बे-कार है
इक वाधू भार है
तैनूं मर जाना ही बस दरकार है
रात अद्धी आर
अद्धी पार है
मेरे वाकन मरद है नार है
रात अद्धी आर
अद्धी पार है ।

लूणा

धरमी बाबल पाप कमायआ
लड़ लायआ साडे फुल्ल कुमलायआ
जिस दा इच्छरां रूप हंढायआ
मैं पूरन दी मां । पूरन दे हान दी ।

मैं उस तों इक चुंमन वड्डी
पर मैं कीकन मां उहदी लग्गी
उह मेरी गरभ जून ना आया
लोका वे, मैं धी वरगी सलवान दी ।

पिता जे धी दा रूप हंढावे
लोका वे ! तैनूं लाज ना आवे
जे लूना पूरन नूं चाहवे
चरित्र-हीन कव्हे क्युं जीभ जहान दी ।

चरित्र-हीन ते तां कोई आखे
जे कर लूना वेचे हासे
पर जे हान ना लभ्भन मापे
हान लभ्भन विच गल्ल की है अपमान दी ।

लूना होवे तां अपराधण
जेकर अन्दरों होए सुहागण
महक उहदी जे होवे दाग़ण
महक मेरी तां कंजक मैं ही जाणदी ।

जो सलवान मेरे लड़ लग्गा
दिन भर चुक्क फ़ाईलां दा थब्बा
शहरो शहर रव्हे नित्त भज्जा
मन विच्च चेटक चांदी दे फुल्ल खान दी ।

चिर होया उहदी इच्छरां मोई
इक पूरन जंम पूरन होई
उह पूरन ना जोगी कोई
उस दी नज़र है मेरा हान पछाणदी ।

हो चल्ल्या है आथन वेला
आया नहीं गोरख दा चेला
दफ़तर तों अज्ज घर अलबेला
मैं पई करां त्यारी कैफ़े जान दी ।

धरमी बाबल पाप कमायआ
लड़ लायआ साडे फुल्ल कुमलायआ
जिस दा इच्छरां रूप हंढायआ
मैं पूरन दी मां । पूरन दे हान दी ।

इक सफ़र

उह वी शहरों आ रही सी
मैं वी शहरों आ रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी ।
दूर लहन्दे दी खुशक टहनी 'ते दूर
फुल्ल सूरज दा अजे कुमला रिहा सी
उहदे ते मेरे विचाले वित्थ सी
फिर मैनूं सेक उहदा आ रिहा सी
यक्के वाला हौली-हौली गा रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी ।

दोवें कंढे सांवली जेही सड़क दे
उहदे बुल्ल्हां वांग पए सी फरकदे
जापदा सी मील-पत्थर, बुरजियां
सड़क दे पए दन्द होवन हस्सदे
पौन दा चिमटा प्या सी वज्जदा
टाहलियां दे पत्ते पए सी खड़कदे
वेख रहे सन साडी वल्ले नामुराद
काशनी जेहे फुल्ल पहाड़ी अक्क दे
बीज रहे सन मेरे दिल विच सरघियां
लाल सूहे कोर उहदी अक्ख दे
दूर इक आथन दा तारा फिक्कड़ा
गगन दी हुन गल्ल्ह 'ते मुसका रिहा सी
इक न्याने दे गुलाबी मुक्ख उत्ते
काले तिल दे वांग नज़रीं आ रिहा सी
उहदे ते मेरे विचाले फासला
साडी मंज़िल वांग घटदा जा रिहा सी
यक्के वाला हौली हौली गा रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी ।

उफ़क दे नैणां च कुझ नीला कु धूं
काग दे ज्युं बोट दे पिंडे 'ते लूं
बख़शदा सी जा रिहा मैनूं सकूं
दूर उस धूंएं दे उस जंगल तों पार
जा रही सी पंछियां दी इक डार
मेरा जी कीता कि मैं उस डार नूं
उच्ची देनी इक कहां आवाज़ मार
'नाल आपने लै चलो सानूं वी यार
दूर इस दुनियां तों किधरे परले पार
देना सानूं उस जज़ीरे 'ते उतार
जिथे सकीए रात अज्ज दी इह गुज़ार'
स्याह हनेरा स्याह दी इक सपनी दे वांग
मेरे वल्ले सरकदा ही आ रिहा सी
मेरा हत्थ हुन उहदिआं हत्थां दे नाल
ख़ौरे किन्नी देर तों टकरा रिहा सी
जीकणां घुग्गियां दा जोड़ा कंध 'ते
चुंझ दे विच चुंझ पा मुसका रिहा सी
यक्के वाला हौली हौली गा रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी ।

सड़क दे बुल्ल्हां 'ते अम्बां दी कतार
महक आपने बूर दी सी रही खिलार
उस पलाडे विच अजे तीक
चुग रही सी बिजड़्यां दी इक डार
हुन उहदे हत्थ मेर्यां हत्थां च सन
बरफ़ नालों वद्ध सन जो ठंढे ठार
जीकणां बिल्ले दे मूंह कोई गुटार
कर रहे सन फेर वी मैनूं प्यार
जद ही भैड़ी राह असाडा कट्ट गई
काली बिल्ली वागणां इक काली कार
साडे मूंह 'ते रौशनी दा इक बुक्क मार
सानूं उस खेड तों गई विसार
पिच्छे बत्ती लाल जेही उस कार दी
अजे तीकन चमक पई सी मारदी
जापदा सी सड़क दे मत्थे 'ते ज्युं
कंम दौनी दा पई सी सारदी
जां मनी चमके गले दे हार दी
पौणां दे पैरां च झांजर महक दी
फुल्ल चौंह हत्थां दा रल के पा रिहा सी
जापदा सी तेज़ सूरज हाड़ दा
साडियां तलियां 'चों चढ़दा आ रिहा सी
सेक वधदा जा रिहा सी
यक्के वाला हौली हौली गा रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी आ रही सी तेज़ सुंमां दी आवाज़
ताल विच सी छणकदा यक्के दा साज़
साज़ 'चों इक उभरदी ऐसी आवाज़
बिजली दे खंभ्यां 'चों जिस तर्हां
निक्के हुन्दे कन्न ला सुणदे आवाज़
पर ना आउंदा समझ दे विच उसदा राज़
समझदे कि है परेतां दी आवाज़
उड्ड रहे ने जां कि लामां विच जहाज़
जगत दे पापां तों चिड़ के समझदे
हो गए जां देवते सारे नाराज़
हत्थ साडे अग्ग दी उस खेड तों
अजे तीकन वी नहीं हन आए बाअज़
आ रही सी तेज़ सुंमां दी आवाज़
छणकदा सी जा रिहा यक्के दा साज़ ।

उहदे पिंड दी उच्ची मसजिद दा मिनार
उस हनेरे विच वी नज़रीं आ रिहा सी
उह ते उहदे नाल उहदा हत्थ वी
मेरे हत्थां 'चों निकल के जा रिहा सी
उहदे बाझों ओस दा ही हुन गरां
लग्ग्या कि खान नूं ज्युं आ रिहा सी
यक्के वाला ख़ौरे की कुरला रिहा सी
बे-रहम, घोड़े नूं इक जल्लाद वांग
उच्ची-उच्ची तेज़ छांटे ला रिहा सी
दूर उच्ची चुग़ल इक चिचला रिहा सी
सारा राह ओस चुग़ल दी आवाज़ नाल
लग्ग्या कि नींद विच बरड़ा रिहा सी
सारा यक्का हुन किसे ताज़ा मरे
जानवर दा करंग नज़रीं आ रिहा सी
दूर लहन्दे दी ख़ुशक टाहनी नूं हुण
तार्यां दा घुन जेहा बस खा रिहा सी
दीव्यां दी लो च हुन मेरा गरां
दूरों कबरसतान नज़रीं आ रिहा सी
दिल मेरा उड्डदे फरारे वाकणां
हर घड़ी पिच्छे नूं टुर्या जा रिहा सी
यक्के वाला ख़ौरे की कुरला रिहा सी
बे-रहम, घोड़े नूं इक जल्लाद वांग
उच्ची-उच्ची तेज़ छांटे ला रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी
यक्का टुर्या जा रिहा सी ।

सिकलीगर

मैं सिकलीगर, हां सिकलीगर
ना कोई मेरा देश, ना नगर
ना कोई मेरा घर
मैं सिकलीगर, हां सिकलीगर ।

ज़िन्दगानी दे ख़ाबां दी गड्ड
लै के शहर शहर मैं फिर्या
पेट दी अग्ग बुझावन जोगा
पर कोई रुज़गार ना मिल्या
समें दे पिंड दियां 'पैड़ां ते
हौली हौली रिहा मैं टुर्या
पर फ़िकरां दा रंग ना खुर्या
हुन मैथों नहीं जांदा टुर्या
ना ही पिच्छे जांदै मुड़्या
हुन तक शायद बुढ्ढी ठेरी
मेरी अंमां गई होसी मर
लभ्भ ल्या होसी मेरे प्यु ने
आपनी धी लई ओग कोई वर
हुन नहीं मैनूं कोई वी ड्र
हे मेरी सजनी चिंता ना कर
कीह होया जे हां सिकलीगर ।

कीह होया जे भुल्ल चुक्का है
मैनूं मेरा कुल्ल कबीला ?
लक्ख पहाड़ां तों भारा है
ज़िन्दगानी दा सावा तीला
इस तों वी वद्ध भारा हुन्दै
ज्यून लई रुज़गार वसीला
कीह होया जे रोटी ख़ातर
मेरे लई ने सभ्भे गए मर
मैं ज़िन्दगानी नूं बिलवा वाकण
लाश किसे दा मोढा फड़ के
जाना है तर ।जाना है तर ।
हे मेरी सजनी चिंता ना कर
कीह होया जे हां सिकलीगर ।

हे मेरी सजनी , वेख कि तेरी
दौनी वरगा लहन्दे वल्ले
कीकन थोहरां दे फुल्ल जेहा
पीला सूरज डुब्ब रिहा है
जीकन सिवा मेरी अंमां दा
ताज़ा बल के बुझ रिहा है
बिलकुल तेरी साड़ी वरगा
रंग फ़िज़ा विच उड्ड रिहा है
सजनी आख़िर इशक असाडा
वाहवा ही तां पुग रिहा है ।
मेरे वेहड़े चांदी दा
इक बूटा आख़िर उग्ग रिहा है
कीह होया जे जिन्द मेरी दा
पीला सूरज डुब्ब रिहा है ?
आख़िर इक दिन, सुक्क ही जांदै
हर ज़िन्दगी दा, हर डूंघा सर
आख़िर बद्दल उड्ड ही जांदै
इक पल, दो पल जां दो दिन वर्ह
कीह भैड़ा है
इशक जे मेरा
तेरे तों रुज़गार दा राह है ?
पर मेरा सौखा तां साह है
तैनूं वी कुझ मेरा लाह है ?
हे मेरी सजनी चिंता ना कर
कीह होया जे हां सिकलीगर ।

हे मेरी सजणी, तूं समझेंगी
मैं मध पी के बोली जांदां
काम-मत्त्या वण दी छां जेहे
तेरे वाल वरोली जांदां
कच्चियां रत्तियां जेहे बुल्ल्ह सूहे
आपने साह विच घोली जांदां
हो सकदा है, तिल मात्र
कोई इस गल्ल विच सच्चाई होवे
रोज़ दे कोहलू गेड़े वाकण
अज्ज वी मन विच आई होवे
जिसम तेरे दी भिन्नी ख़ुशबो
अज्ज वी मैनूं भाई होवे
फिर वी होश है जिथों तीकण
अज्ज मेरा अंग अंग प्या ठरदै
अज्ज तेरे परमेशर कोलों
पापी पेट प्या बहुं ड्रदै
अज्ज मैं ईकन सोच रिहा हां
ज्युं ज़िन्दगानी दे थेहां ते
आपने ग़म दा लोहा कुट्टदे
काले लहू नूं थुक्कदे थुक्कदे
आपनी बुढ्ढी अंमां वाजण
मैं वी छेती जाना है मर
मेरे लई ने बन्द हो जाणे
तेरी रहमत दे वी दर
पर तूं सजनी चिंता ना कर
हंस हां, खंभां विच साहस है
लभ्भ ही लां 'गा हर(होर) कोई सर
की होया जे देश ना नगर
ना कोई मेरा घर ।
की होया जे हां सिकलीगर ।

हमदरद

मेरे हमदरद !
तेरा ख़त मिल्या
तेरे जज़बात दी इक महक दा
इह गुंचा
मेरे अहसास दे होठां 'ते
इवें खिड़्या
बाज़ारी जिवें
सोहनी किसे नार दा चुंमण
प्रिथम वार
किसे कामी नूं होए जुड़्या
मेरे हमदरद
तेरा ख़त मिल्या ।

मेरे हमदरद
हमदरदी तेरी सिर-मत्थे
फिर वी
हमदरदी तों मैनूं डर लग्गदै
'हमदरदी'
पोशाक है किसे हीने दी
'हीणा'
सभ तों वड्डा मेहना जग्ग 'ते
जेहड़े हत्थां थीं उलीके ने
तूं इह अक्खर
उन्हां हत्थां नूं मेरा सौ सौ चुंमण
मैं नहीं चाहुन्दा
तेरे होठां दे गुलाब
आतशी-सूहे
बड़े शोख़ ते तेज़ाबी ने जो
मेरे साहां दी बदबू 'च
सदा लई गुंमण
मैं जाणदां
तेरे ख़त 'च
तेरे जिसम दी ख़ुशबो है
इक सेक है, इक रंग है
हमदरदी दी छोह है
हमदरदी मेरी नज़र 'च
पर कीह आखां ?
बे-हस्स जेहे काम दे
पैंडे दा ही कोह है ?
मैं जाणदां
मैं जाणदां, हमदरद मेरे
ज़िन्दगी मेरी
मेरी तां मतई्ई मां है
फिर वी है प्यारी बड़ी
इहदी मिट्ठी छां है ।

कीह ग़म जे भला
लंमे ते इस चौड़े जहां विच
इक ज़रा वी ना ऐसा
कि जेहनूं आपना ही कह लां
कीह ग़म
जे नसीबे ना
पंछी दा वी परछावां
इस उमरा दे सहरा 'च
जिद्ही छावें ही बह लां ।

तेरे कहन मुताबक
जे तेरा साथ मिले मैनूं
कीह पता फिर वी ना
दुनियां च मुबारक थीवां
मेरे हमदरद
हमदरदी तेरी सिर मत्थे
मैं तां चाहुन्दा हां
ज़िन्दगी दा ज़हर
कल्ला ही पीवां
मेरे हमदरद !
तेरा ख़त मिल्या ।
मेरे हमदरद
तेरा ख़त मिल्या ।

शिकरा

माए ! नी माए !
मैं इक शिकरा यार बणायआ
उहदे सिर 'ते कलगी
ते उहदे पैरीं झांजर
ते उह चोग चुगींदा आया
नी मैं वारी जां ।

इक उहदे रूप दी
धुप्प तिखेरी
दूजा महकां दा तिरहायआ
तीजा उहदा रंग गुलाबी
किसे गोरी मां दा जायआ
नी मैं वारी जां ।

नैणीं उहदे
चेत दी आथण
अते ज़ुलफ़ीं सावन छायआ
होठां दे विच कत्तें दा
कोई देहुं चढ़ने 'ते आया
नी मैं वारी जां ।

साहवां दे विच
फुल्ल सोयां दे
किसे बाग़ चानन दा लायआ
देही दे विच खेडे चेतर
इतरां नाल नुहायआ
नी मैं वारी जां ।

बोलां दे विच
पौन पुरे दी
नी उह कोइलां दा हमसायआ
चिट्टे दन्द ज्युं धानों बग़ला
तौड़ी मार उडायआ
नी मैं वारी जां ।

इशके दा
इक पलंघ नुआरी
असां चानणियां विच डाहआ
तन दी चादर हो गई मैली
उस पैर जां पलंघे पायआ
नी मैं वारी जां ।

दुखन मेरे
नैणां दे कोए
विच हड़्ह हंझूआं दा आया
सारी रात गई विच सोचां
उस इह की ज़ुलम कमायआ
नी मैं वारी जां ।

सुब्हा-सवेरे
लै नी वटणा
असां मल मल ओस नुहायआ
देही विचों निकलन चिणगां
ते साडा हत्थ ग्या कुमलायआ
नी मैं वारी जां ।

चूरी कुट्टां
ते उह खांदा नाहीं
उहनूं दिल दा मास खवायआ
इक उडारी ऐसी मारी
उह मुड़ वतनीं नहीं आया
नी मैं वारी जां ।

माए ! नी माए !
मैं इक शिकरा यार बणायआ
उहदे सिर 'ते कलगी
ते उहदे पैरीं झांजर
ते उह चोग चुगींदा आया
नी मैं वारी जां ।

इक शाम

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
मैनूं मेरे वांग ही
मायूस नज़र आई है
दिल 'ते लै घटिया जहे
होन दा अहसास
काहवा-खाने च मेरे नाल
चली आई है ।

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
मैनूं मेरे वांग ही
मायूस नज़र आई है ।

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
मैनूं इक डैण
नज़र आई है
जो मेरी सोच दे
सिव्यां च कई वार
मैनूं नंगी अलफ़
घुंमदी नज़र आई है
अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
काहवा-खाने च मेरे नाल
चली आई है ।

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
पालतू सप्प कोई
मैनूं नज़र आई है
जो इस शहर-सपेरे दी
हुसीं कैद 'चों छुट्ट के
मार के डंग, कलेजे 'ते
हुने आई है
अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
काहवा-खाने च मेरे नाल
चली आई है ।

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
मैनूं लंमूबे दी
नार नज़र आई है
जिद्ही मांग 'चों ज़रदारी ने
हाए, पूंझ के संधूर
अफ़रीका दी दहलीज़ 'ते
कर विधवा बिठाई है
अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
काहवा-खाने च मेरे नाल
चली आई है ।

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
ऐसी मनहूस
ते बदशकल शहर आई है
जेहड़े शहर 'च
इस दुद्ध मिले काहवे दे रंग दी
मासूम गुनाह वरगी
मुहब्बत मैं गवाई है ।

अज्ज दी शाम
इह गोले कबूतर रंगी
मैनूं मेरे वांग ही
मायूस नज़र आई है
दिल 'ते लै घटिया जेहे
होन दा अहसास
काहवा-खाने च मेरे नाल
चली आई है ।

बिरहा

मैथों मेरा बिरहा वड्डा
मैं नित्त कूक रेहा
मेरी झोली इको हौका
इहदी झोल अथाह ।

बाल-वरेसे इशक गवाचा
ज़ख़मी हो गए साह
मेरे होठां वेख लई
चुंमणां दी जून हंढा ।

जो चुंमन मेरे दर 'ते खड़्हआ
इक अद्ध वारी आ
मुड़ उह भुल्ल कदे ना लंघ्या
एस दरां दे राह ।

मैं उहनूं नित्त उडीकन बैठा
थक्क्या औंसियां पा
मैनूं उह चुंमन ना बहुड़्या
सै चुंमणां दे वण गाह ।

उह चुंमन मेरे हान दा
विच लक्ख सूरज दा ता
जेहड़े साहीं चेतर खेडदा
मैनूं उस चुंमन दा चा ।

परदेसी चुंमन मैंड्या
कदे वतनीं फेरा पा
किते सुच्चा बिरहा तैंडड़ा
मैथों जूठा ना हो जा ।

बिरहा वी लोभी काम दा
इहदी जात कुजात ना का
भावें बिरहा रब्बों वड्डड़ा
मैं उच्ची कूक रिहा ।

तित्थ-पत्तर

इह इक बड़ा पुराणा
मैला तित्थ-पत्तर
समें दे रुक्ख दा
पीला होया इह पत्तर
सूली लग्गे
ईसा वांग है लटक रेहा
ज़ेहन मेरे दी
वादी विच है भटक रिहा ।

उह दिन बहुं वडभागा
जद किसे सागर विच
आदम दे किसे पितर
अमूबे(अमीबे) जनम ल्या
पर इह देहुं निकरमा
जद इस आदम दी
झोली फुल्ल समें दा
होसी ख़ैर प्या
वेख-वेख तित्थ-पत्तर
मैं सोच रिहा :
समां अवारा कुत्ता
दर दर भटक रेहा
जूठे हड्ड खान लई
लोभी तरस रिहा ।

समां पराई नार
ते जां फिर रंडी है
पहली रात हंढायआं
लग्गदी चंगी है
दूजी रात बितायआं
हुन्दी भंडी है
पर इहदे संग
दुनियां दे हर ज़र्रे नूं
इक अद्ध घड़ी
ज़रूर बितानी पैंदी है
कदे हरामन टिक के
ना इह बहन्दी है
उमर दी बारी
खोल्ह के एस जहां वल्ले
कामनी मैली नज़रे
तक्कदी रहन्दी है ।

समां काल दा चिन्न्ह
इह नित्त बदलदा है
झूठे, सोहने काम च मत्ते
आशिक वांग
मिट्ठियां कर कर गल्लां
सानूं छलदा है
मान के चुंमण
इक दो एस हयाती दे
भुल्ल जांदा है-
फेर ना वेहड़े वड़दा है
समां काल दा चिन्न्ह
इह नित्त बदलदा है ।

इह इक बड़ा पुराणा
मैला तित्थ-पत्तर
समें दे रुक्ख दा
पीला होया इक पत्तर
सूली लग्गे
ईसा वाकन लटक रेहै
ज़ेहन मेरे दी
सुंञी उज्जड़ी वादी विच
समें दी इक-
ठुकराई होई सज्जनी वांग
पीड़ां-कुट्ठी
बिरहन वाकन भटक रेहै
इह इक बड़ा पुराणा
मैला तित्थ-पत्तर
इह इक बड़ा पुराणा
मैला तित्थ-पत्तर ।

वीनस दा बुत्त

इह सज्जनी वीनस दा बुत्त है
काम देवता इस दा पुत्त है
मिसरी अते यूनानी धरमां विच
इह देवी सभ तों मुक्ख है
इह सज्जनी वीनस दा बुत्त है ।
काम जो सभ तों महांबली है
उस दी मां नूं कहना नंगी
इह गल्ल उक्की ही ना चंगी
तेरी इस ना-समझी उत्ते
सच्च पुच्छें तां मैनूं दुक्ख है
काम खुदा तों वी प्रमुक्ख है
एसे दी है बख़शी होई
तुद्द ते हुसनां दी जो रुत्त है
एसे ने है रूप वंडणा-
ख़ून मेरा जो तैंडी कुक्ख है
इह तां वीनस मां दा बुत्त है
खड़ी आ मिट्टी दी इह बाज़ी
चिट्टी दुद्ध कली ज्युं ताज़ी
काम हुसन दा इक संगम है
काम हुसन दी कथा सुणांदा
कोई अलमसत जेहा जंगम है
तेरा इस नूं टुंडी कहणा
सच्च पुच्छें तां मैनूं ग़म है
काम बिनां हे मेरी सजणी
काहदे अरथ जे चलदा दम है ।

काम है शिवजी, काम ब्रहम है
काम ही सभ तों महां धरम है
काम तों वड्डा ना कोई सुक्ख है
काम तों वड्डा ना कोई दुक्ख है
तेरी इस ना-समझी उत्ते
हे मेरी सजनी ! मैनूं दुक्ख है
इह तां वीनस मां दा बुत्त है
वेख कि बुत्त नूं की होया है ?
इउं लगदा है ज्युं रोया है
साथों कोई पाप होया है

सारे दीवे झब्ब बुझा दे
इस नूं थोड़्हा पर्हां हटा दे
इस दे मुक्ख नूं पर्हां भुआ दे
जां इस 'ते कोई परदा पा दे
इस दे दिल विच वी कोई दुक्ख है
इस नूं हाले वी कोई भुक्ख है
भावें काम एस दा पुत्त है

मिसरी अते यूनानी धरमां
विच इह भावें सभ तों मुक्ख है
भावें वीनस मां दा बुत्त है
काम खुदा तों वी प्रमुक्ख है ।

सीमा

दैनिक अख़बार दे
अज्ज प्रथम पन्ने 'ते
मेरी महबूबा दी
तसवीर छपी है
एस तसवीर 'च
कुझ गोरे बदेशी बच्चे
ते इक होर उहदे नाल
खड़्ही उस दी सखी है ।

तसवीर दे पैरीं
इक इबारत दी है झांजर
इह कुड़ी
पजिली पंजाबन उह कुड़ी
जेहड़ी परदेस तों
संगीत दी विद्या लै के
छे वर्हे पिच्छों
जो अज्ज देश मुड़ी है ।

हां ठीक केहा, ठीक केहा
इहो उह कुड़ी है
एसे ही कुड़ी दी ख़ातर
मेरी ज़िन्दगी थुड़ी थुड़ी है
इहो है कुड़ी
जिस नूं कि मेरे गीत ने रोंदे
मासूम मेरे ख़ाब वी
अवारा ने भौंदे ।

इहो है कुड़ी
अकसर मेरे शहर जद आउंदी
हर वार जदों आउंदी
तिन्न फुल्ल ल्याउंदी
गुलदान च तिन्न फुल्ल जदों
हत्थीं उह सजाउंदी
मुसका के ते अन्दाज़ 'च
कुझ एदां उह कहन्दी
इक फुल्ल कोई सांझा
तेरे नां दा, मेरे नां दा
इह फुल्ल कोई सांझा
किसे प्यु दा, किसे मां दा
इक फुल्ल मेरी कुक्ख दी
सीमा दे है नां दा ।

हां ठीक केहा, ठीक केहा
इहो उह कुड़ी
पजिली पंजाबन उह कुड़ी है
जेहड़ी प्रदेस तों
संगीत दी विद्या लै के
छे वर्हे पिच्छों
जो अज्ज देश मुड़ी है
एस तसवीर 'च
इक गोरी जेही निक्की बच्ची
मेरी महबूबा दी
जिस चीची है पकड़ रक्खी
ओस दी शकल
मेरे ज़ेहन च है आ लत्थी
ईकन लग्गदा है :
इह मेरी आपनी धी है
मेरा ते मेरी बेलन दे
बिमार लहू दा
एस धरती 'ते बिजायआ
कोई सांझा बिय है
मेरी पीड़ा दी मरियम दे
ख़ाबां दा मसीह है ।
मुद्दत तों जिद्ही ख़ातर
बेचैन मेरा जी है
ओहो ही सीमा धी है
कोई होर इहदा प्यु है

हां ठीक केहा, ठीक केहा
इहो उह कुड़ी
पजिली पंजाबन उह कुड़ी है
जेहड़ी परदेस तों
संगीत दी विद्या लै के
छे वर्हे पिच्छों
जो अज्ज देश मुड़ी है ।

अजनबी

अजे तां मैं हां अजनबी ।
अजे तां तूं हैं अजनबी ।
ते शायद अजनबी रहांगे
इक सदी जां दो सदी
ना ते तूं ही औलिया हैं
ना ते मैं ही हां नबी
इह आस है, उमीद है
कि मिल पवांगे पर कदी
अजे तां मैं हां अजनबी
अजे तां तूं हैं अजनबी ।

मेरे लई इह रस-भरी
तेरी मलूक मुसकड़ी
किसे विमान सेवका
दी मुसकड़ी दे वांग है
अजे वी जिस च जाणदां
कि वाशना दी कांग है
मैं जाणदां, मैं जाणदां
मेरे लई तेरी वफ़ा
अजे वी इक सवांग है
मेरे नशीले जिसम दी
अजे वी तैनूं मांग है
जेहड़ा कि तेरी नज़र विच
फिलमी रसाले वांग है
सफ़ा सफ़ा फरोलणा
जिद्हा है तेरी दिल लगी
समें नूं सन्न्ह मार के
जे मिल जाए घड़ी कदी
काम दा हां मैं सगा
ते काम दी हैं तूं सगी
अजे तां मैं हां अजनबी
अजे तां तूं हैं अजनबी ।

अजे तां साडा इशक
ओस मक्कड़ी दे वांग है
काम दे सुआद पिच्छों
हो जाए जो हामिला
ते मक्कड़े नूं मार के
बना लए जिवें गज़ा
ते खाई जाए उह कामणी
कुलच्छनी सुआद ला
हे कामणी, हे कामनी ।
मैनूं बचा, मैनूं बचा
वासता ई जीभ नूं
इह ख़ून दा ना सुआद पा
दूर हो के बह पर्हां
ना कोल आ ना कोल आ
अजे तां मैं हां अजनबी
अजे तां तूं हैं अजनबी ।

तेरे गले थीं चिमट के
इह सौं रिहा जो बाल है
छुरी है संसकार दी
जो कर रही हलाल है
इह कहन नूं तां ठीक है कि
तेरा मेरा ही लाल है
जे सोचीए तां सोहणीए
तैनूं सदीवी मरद दी
मैं जाणदां कि भाल है
साडी वफ़ा नूं गाल्ह है
ज़िन्दगी बिताउन दी
चल्ली असां ने चाल है
मैनूं सदीवी नार दी
तूं जाणदी कि भाल है
है ठीक फिर वी वग रही
है रिशत्यां दी इक नदी
मुलंम्यां दी मैं उपज
मुलंम्यां दी तूं छबी
ना वफ़ा दा मैं सगा
ते ना वफ़ा दी तूं सगी
अजे तां मैं हां अजनबी
अजे तां तूं हैं अजनबी ।

है ठीक कि तेरी मेरी
अजे कोई पछान नहीं
अजे असानूं आपने ही
आप दी पछान नहीं
अजे अंजील वेद ते
कुरान दी पछान नहीं
गौरियां नूं सोम दी
अजे कोई पछान नहीं
मंगोलियां दरावड़ां नूं
आरियां 'ते मान नहीं
अजे तां दिल ने अजनबी
अजे दिमाग़ अजनबी
अजे तां कुल जहान
साडे वाकना है अजनबी
ते शायद अजनबी रहांगे
इक सदी जां दो सदी
इह आस है उमीद है
कि मिल पवांगे पर कदी
अजे तां मैं हां अजनबी
अजे तां तूं हैं अजनबी ।

संगरांद

पोह महीना
सरद इह बसती पहाड़ी
यक्ख-ठंडी रात दे अंतम समें
मेरे लागे
मेरी हमदरदन दे वांग
सौं रही है
चाननी दी झुंभ मारी
हूबहू चीने कबूतरां वाकणां
गुटकदी ते सोन-खंभां नूं खिलारी ।
पोह महीना, सरद इह
बसती पहाड़ी ।
इह मेरी वाकफ़
ते हमदरद दा घर
जिस च अज्ज दी रात
मैं इह है गुज़ारी
जिस दी सूरत
चेत दे सूरज दे वांग
नीम-निघ्घी दूधिया है गुलानारी ।
पोह दी संगरांद दे परभात वेले
नित्तरी मन्दर दी चिरनामत दे वांग
ठंढी-ठंढी
सुच्ची-मिट्ठी ते प्यारी
सौं रही है महक होठां 'ते खिलारी ।

उफ़ !
किन्नी हो रही है बरफ़-बारी
एस बसती दी ठरी होई बुक्कले
मघ रही ना
किते वी कोई अंगारी
चौहीं-पासीं
ज़हर मोहरी बरफ़ दा
मौन सागर है पसरदा जा रेहा
मेरा दिल, मेरा जिसम, मेरा ज़ेहन
बरफ़ संग है बरफ़ हुन्दा जा रेहा
दूर काला
रुक्ख लंमा चील्ह दा
शीश्यां तों पार जो उंघला रेहा
मैनूं बसती दी
बलौरी पातली विच
सूल वत्त चुभ्या है नज़रीं आ रेहा

उफ़ !
इह मैनूं कीह हुन्दा जा रिहा ?
मेरे ख़ाबां दी सरद ताबीर विच
मेरी हमदरदन दा कच्ची गरी जेहा
सुत्त-उनींदा जिसम बणदा जा रेहा
हम्म-मानव वांग चल्या जा रेहा
कौन दरवाज़े नूं है खड़का रिहा ?
शायद हिम-मानव है टुर्या आ रेहा
हे दिला ! बे-होश्या !
कुझ होश कर
ना ते कोई आ ते ना ही जा रेहा
इह तां मेरा वहम तैनूं खा रिहा ।
इह तां है
इक तेरी हमदरदन दा घर
सोच कर, कुझ सोच कर, कुझ सोच कर
उह तां पहलां ही
अमानत है किसे दी
तूं तां ऐवें पीन गिल्ला पा रेहा
रेशमी जहे वग रहे उहदे सवास ते
नज़र मैली किस लई हैं पा रिहा ?
उह तां मन्दर दी सुच्ची पौन वरगा
सुआद तुलसी दा
जिद्हे 'चों आ रिहा ।

हे मना !
कुझ शरम कर, कुझ शरम कर
तूं तां उक्का ही
शरम है लाह मारी
होन दे जे सुन्न हो जाए जिसम तेरा
होन दे जे सुन्न हो जाए उमर सारी
तूं तां धुर तों ग़म दी इक संगरांद हैं
कर ना ऐवें
मूरखा तूं नज़र माड़ी ।
लभ्भ हमदरदी 'चों ना
कोई चिंगाड़ी
वेख, तेरे तों वी वध के सरद है
फिर वी किन्नी हुसीं
बसती पहाड़ी ।

यक्ख-ठंडी रात दे अंतम समें
मेरे लागे
मेरी हमदरदन दे वांग
सौं रही है चाननी दी झुंभ मारी
पोह महीना, सरद इह
बसती पहाड़ी ।

बहू-रूपीए

शाम
इह अज्ज दी शाम
मेरे घर विच पई घुंमदी है
चुप्प चुप्प ते वीरान
किसे निपत्तरे रुक्ख दे उत्ते
इल्ल दे आल्हने वांग
गुंम-सुंम ते सुन्नसान
शाम-इह अज्ज दी शाम

ऐसी बे-हस शाम नूं आख़िर
मैं घर बह के कीह लैना सी
इह कमबख़त सवेरे आउंदी
जे कर इस ने वी आउना सी
इहदे नालों तां चंगा सी
काहवा-खाने दी बुक्कल विच
काफ़ी दे दो घुट्ट निगल के
सिगरट धुखा के बह रहना सी
सरमिड-मच्छी जहियां कुड़ियां
वेखन मातर सड़कां उत्ते
यारां दे संग भौं लैना सी
थक्क टुट्ट के सौं रहना सी
घर बह के मैं कीह लैना सी
घर बह के मैं कीह लैना सी ?

समां वी किन्नी चन्दरी शै है
किसे पुराने अमली वाकण
दिन भर पी के डोडे सौहरा
गलियां ते बाज़ारां दे विच
आपनी झोक च टुर्या रहन्दै ।
ना कुझ सुणदै ना कुझ कहन्दै ।
ना किते खड़्हदै, ना किते बहन्दै ।
इस बदबू दे जान च हाले
युग्गां जेडा इक पल रहन्दै ।

कालियां कालियां जीभां जेहियां
मेरी हत्थ-घड़ी दियां सूईआं
मेरी हिक्क विच लंमे लंमे
कंड्यां वाकन पुड़ियां होईआं
हफ़ियां हफ़ियां भज्ज भज्ज मोईआं
दिन भर समें दे खूहे उत्ते
बैलां वाकन जोईआं होईआं
ग़म दे पानी संग सिंजन लई
मेरे दिल दियां बंजर रोहियां
अज्ज दियां शामां ऐवें गईआं ।

रब्ब करे बदबू दी ढेरी
छेती जावे, छेती जावे
जां रब्ब कर के बहु-रूपणी
चोरां दे संग उद्धल जावे
जां कोई ऐसा मंतर चल्ले
इह कमबख़त भसम हो जावे
इस मनहूस ने ख़ौरे कद तक
मेरा ज़ेहन है चट्टदे रहणा
मैं तां होर किसे संग रात
नच्चन बाल-रूम है जाना ।

बेहा ख़ून

ख़ून ।
बेहा ख़ून ।
मैं हां, बेहा ख़ून ।
निक्की उमरे भोग लई
असां सै चुंमणां दी जून ।

पहला चुंमन बाल-वरेसे
टुर साडे दर आया
उह चुंमन मिट्टी दी बाज़ी
दो पल खेड गवायआ
दूजा चुंमन जो सानूं जुड़्या
उह साडे मेच ना आया
उस मगरों सै चुंमन जुड़्या
पर होठीं ना लायआ
मुड़ ना पाप कमायआ ।

पर इह केहा अज्ज दा चुंमण
गल साडे लग्ग रोया
होठां दी दहलीज़ स्युंकी
ते चानन जिस चोया
इह चुंमन साडा सज्जन दिसदा
इह साडा महरम होया
डूंघी ढाब हिजर दी साडी
डुब्ब मोया, डुब्ब मोया
साडा तन-मन हर्या होया ।
पर इह केहा कु दिल-परचावा
पर इह केहा सकून ?
मैं हां, बेहा-ख़ून ।

ख़ून ।
बेहा ख़ून ।
बाशे नूं इक तितली कहणा
इह है निरा जनून
बाल-वरेसे जेहड़ा मर्या
उस चुंमन दी ऊण
मर-मुक्क के वी कर ना सकदा
पूरी बेहा-ख़ून
भावें इह ब्रहमंड वी फोले
जां फिर अरून वरून
इह वी इक जनून
मैं हाले ताज़े दा ताज़ा
समझे मेरा ख़ून
निक्की उमरे मान लई
जिस सै चुंमणां दी जून ।

ख़ून ।
बेहा-ख़ून ।
मैं हां बेहा-ख़ून ।

मील पत्थर

मैं मील पत्थर, हां मील पत्थर
मेरे मत्थे 'ते हैन पक्के
इह काले बिरहों दे चार अक्खर
मेरा जीवन कुझ इस तर्हां है
जिस तर्हां कि किसे गरां विच
थोहरां मल्ले उजाड़ दैरे 'च
रहन्दा होवे मलंग फक्कर
ते जूठे टुक्कां दी आस लै के
दिन ढले जो गरां च आवे
ते बिन बुलायआं ही परत जावे
'औ-लक्ख' कह ते मार चक्कर
मैं मील पत्थर, हां मील पत्थर ।
मैं ज़िन्दगानी दे काले राह दे
ऐसे बे-हस्स पड़ाय 'ते खड़्हआं
जिते ख़ाबां दे नीले रुक्खां 'चों
पौन पीली जेही वग रही ए
अग्ग सिव्यां दी मघ रही ए
कदे कदे कोई ग़मां दा पंछी
परां नूं आपने है फड़फड़ांदा
ते उमर मेरी दे पीले अरशों
कोई सितारा है टुट्ट जांदा
ते चांदी-वन्ना ख़ाब मेरा
समें दा हरियल है टुक्क जांदा
विंहदे विंहदे ही नीले ख़ाबां दा
सारा जंगल है सुक्क जांदा ।
फेर दिल दी मायूस वादी 'च
तलख़ घड़ियां दे ज़रद पत्तर
उच्ची उच्ची पुकारदे ने
मैं मील-पत्थर, हां मील-पत्थर
उह झूठ थोड़ा ही मारदे ने
उह ठीक ही तां पुकारदे ने
मैं मील-पत्थर, हां मील-पत्थर ।

मेरे पैरां दे नाल खहन्दी
इक सड़क जांदी है उस शहर नूं
शहर जिस दे हुसीन महलां 'च
इशक मेरा गवाच्या है
शहर जिस नूं कि आशकां ने
शहर परियां दा आख्या है ।

शहर जिस दी कि हर गली
हाए, गीत वरगी नुहार दी है
शहर जिस दे हुसीन पट्टां 'च
रात शबनम गुज़ारदी है
ते होर दूजी कोई सड़क जांदी है
मेरे पैरां 'चों उस शहर नूं
शहर जिस दी कि पाक मिट्टी दा
ख़ून पी के मैं जनम लीतै
शहर जिद्हियां कि दुधनियां 'चों
मासूमियत दा दुद्ध पीतै
शहर जिस दे बेरंग चेहरे 'ते
झुरड़ियां दे ने झाड़ फैले
शहर जिस दे कि सीने अन्दर ने
गुरबतां दे पहाड़ फैले
शहर जिस दे हुसीन नैणां दे
दोवें दीवे ही हिस्स चुक्के ने
शहर जिस दे जनाज़्यां लई
ख़रीदे कफ़न वी विक चुक्के ने ।

ते होर तीजी कोई सड़क जांदी है
मेरे पैरां 'चों उस शहर नूं
शहर जिद्हियां मुलैम सड़कां 'ते
जा के कोई कदे नहीं मुड़दा
इह समझ लीता जांदा है मुरदा ।

ते होर चौथी कोई सड़क जांदी है
मेरे पैरां 'चों उस शहर नूं
शहर जिस दे काले बाग़ां 'च
सिरफ़ आसां दी पौन जावे
कदे कदे हां ओस जूह 'चों
कुझ इस तर्हां दी आवाज़ आवे
ओ मील पत्थर ! ओ मील पत्थर !
आबाद करने ने तूं ही रक्कड़
तूं ही धरती दा कोझ वरनैं
तूं ही करनी फ़ज़ा मुअत्तर
तूं ही सेजां नूं मानणा
सौं के पहलां तूं वेख सत्थर ।
पर मैं छेती ही समझ जांदा
इह मेरे ख़ाबां दा शोर ही है
जो ला रिहा है ज़ेहन च चक्कर
मैं समझदा हां, मैं समझदा हां
मैं मील-पत्थर, हां मील-पत्थर ।

मेरे मत्थे तों आउन वाले
इह लोक पड़्ह के केहा करनगे
इह उह विचारी बदबख़त रूह है
कि जेहड़ी हिरनां दे सिंङां उत्ते
उदास लम्हआं नूं फड़न ख़ातिर
उमर सारी चढ़ रही ए ।
इह उह है जिस नूं
कि हट्ठ दे फुल्लां दी
महक प्यारी बड़ी रही ए
इह उह है जिस नूं कि निक्की उमरे
उडा के लै गए ग़मां दे झक्खड़
वफ़ा दे सूहे दुमेल उत्ते
इह मील-पत्थर, हां मील-पत्थर ।

उह ठीक ही तां केहा करनगे
मैं मील-पत्थर, हां मील-पत्थर ।
मैं लोचदा हां कि इस चुराहे तों
मैनूं कोई उजाड़ देवे
ते मेरे मत्थे दे काले अख़्ख़रां 'ते
कोट चूने दा चाड़्ह देवे
जां अग्ग फ़ुरकत दी दिनें दीवीं
विच चुराहे दे साड़ देवे
मैं सोचदा हां जे पिघल जावण
इह बदनसीबी दे काले कक्कर
मैं सोचदा हां जे बदल जावण
मेरी किसमत दे सभ नछत्तर
मैं मनुक्खता दे नाम सुक्खांगा
आपने गीतां दे सोन-छत्तर
मैं मील-पत्थर, हां मील-पत्थर
मेरे मत्थे 'ते हैन पक्के
इह काले बिरहों दे चार अक्खर
मैं मील-पत्थर, हां मील-पत्थर ।

 
 
 Hindi Kavita