Hindi Kavita
शिव कुमार बटालवी
Shiv Kumar Batalvi
 Hindi Kavita 

Aarti Shiv Kumar Batalvi in Hindi

आरती शिव कुमार बटालवी

1. आरती

मैं किस हंझू दा दीवा बाल के
तेरी आरती गावां
मैं केहड़े शबद दे बूहे 'ते
मंगन गीत अज्ज जावां
जो तैनूं करन लई भेटा
मैं तेरे दुआरे 'ते आवां

मेरा कोयी गीत नहीं ऐसा
जो तेरे मेच आ जावे
भरे बाज़ार विच जा के
जो आपना सिर कटा आवे
जो आपने सोहल छिन्दे बोल
नींहां विच चिना आवे
तेहाए शबद नूं तलवार दा
पानी प्या आवे
जो लुट जावे ते मुड़ वी
यारड़े दे सत्थरीं गावे

चिड़ी दे खंभ दी ललकार
सौ बाजां नूं खा जावे
मैं किंज तलवार दी गानी
अज्ज आपने गीत गल पावां
मेरा हर गीत बुज़दिल है
मैं केहड़ा गीत अज्ज गावां
मै केहड़े बोल दी भेटा
लै तेरे दुआर 'ते आवां
मेरे गीतां दी महफ़ल 'चों
कोयी उह गीत नहीं लभ्भदा
जो तेरे सीस मंगन 'ते
तेरे साहवें खड़ा होवे
जो मैले हो चुक्के लोहे नूं
आपने खून विच धोवे
कि जिसदी मौत पिच्छों
योस नूं कोयी शबद ना रोवे
कि जिस नूं पीड़ तां कीह
पीड़ दा अहसास ना छोहवे
जो लोहा पी सके उह गीत
किथों लै के मैं आवां
मैं आपनी पीड़ दे अहसास कोलों
दूर किंज जावां ।

मैं तेरी उसतती दा गीत
चाहुन्दा हां कि उह होवे
जिद्हे हत्थ सच्च दी तलवार
ते नैणां च रोह होवे
जिद्हे विच वतन दी मिट्टी लई
अंतां दा मोह होवे
जिद्हे विच लहू तेरे दी
रली लाली ते लोय होवे
मैं आपने लहू दा
किसे गीत नूं टिक्का किवें लावां
मैं बुज़दिल गीत लै के
किस तर्हां तेरे दुआर 'ते आवां ।

मैं चाहुन्दा एस तों पहलां
कि तेरी आरती गावां
मैं मैले शबद धो के
जीभ दी किल्ली 'ते पा आवां
ते मैले शबद सुक्कन तीक
तेरी हर पैड़ चुंम आवां
तेरी हर पैड़ 'ते
हंझू दा इक सूरज जगा आवां
मैं लोहा पीन दी आदत
ज़रा गीतां नूं पा आवां
मैं शायद फेर कुझ
भेटा करन योग हो जावां
मैं बुज़दिल गीत लै के
किस तर्हां तेरे दुआर 'ते आवां
मैं केहड़े शबद दे बूहे 'ते
मंगन गीत अज्ज जावां
मेरा हर गीत बुज़दिल है
मैं केहड़ा गीत अज्ज गावां ।

2. झुक्या सीस

मैं उस दिन पहल वारी
मिल के तैनूं आ रेहा सां

सफ़्यां दे शहर सतरां दियां
अणगिनत सड़कां सन
ते सड़कां ते तेरे शबदां दी
वगदी भीड़ संघनी सी
ते नंगी अक्ख बिन-झिंमनी दे
मैं इह भीड़ लंघनी सी
ते तैनूं मिल के गीतां वासते
इक चिनग मंगनी सी

मैं उस दिन पहल वारी
मिल के तैनूं आ रेहा सां
ते नंगी अक्ख बिन झिंमनी 'च
सूरज पा रेहा सां
मैं नंगी अक्ख विच सूरज नूं पा
सफ़्यां 'ते जद चल्ल्या
मैं हर इक सतर तों डर्या
अमन-शबदां दा हत्थ फड़्या
सफ़े 'ते वग रेहा दर्या
मेरे नैणां च आ खड़्हआ
मैं तेरी दासतां साव्हें
नमोशा सड़क 'ते मर्या
मेरी छाती च सुत्ते लोहे नूं
इक ताप आ चड़्हआ
ते नंगी अक्ख बिन झिंमनी 'च
इक शुअला जेहा बल्या

इह कैसा शहर सी जिस विच
सिरफ़ बस्स कतलगाहां सन
इह कैसा शहर सी जिस विच
सलीबां दा ही मौसम सी ?
पर तेरे अज़म दी हर सड़क 'ते
कन्दील रौशन सी
मैं उस दिन पहल वारी
मिल के तैनूं जा रेहा सां
ते सूरज मांज के मुड़ मुड़
गगन 'ते ला रेहा सां

मैं हरफ़ां दे चुराहआं 'ते
जदों तैनूं बोलदा तक्क्या
मैं हर इक बोल संग रत्त्या
मैं तैथों चिनग मंगन वासते
तेरे बोल वल्ल नस्स्या
तेरा हर बोल मिट्ठा
फग्गनी धुप्पां तों कोसा सी
तेरा चेहरा जिवें चेतर दियां
महकां दा हउका सी
ते तेरे हत्थ विच फड़्या होया
सूरज दा टोटा सी

मैं उस दिन पहल वारी
मिल के तैनूं आ रेहा सां
लोहे दा गीत गंगा ते खलोता
गा रेहा सां
मैं उस दिन हाज़री तेरी 'च
फिर इक गीत गायआ सी
ते बिन मेरे मेरा उह गीत
कोयी ना सुनन आया सी
ते तूं मेरे सौं रहे लोहे 'ते
उस दिन मुसकरायआ सी

मैं उस दिन पहल वारी
मिल के तैनूं आ रेहा सां
ते आपने सौं रहे लोहे तों
मैं शरमा रेहा सां
ते फिर इक बोल तेरे ने
मेरा लोहा जगा दित्ता
तूं आपनी तली 'ते धर्या
मैनूं सूरज फड़ा दित्ता
ते मेरे गीत नूं तूं
खुदकुशी करनों बचा लीता

मैं उस दिन पहल वारी
मिल के तैनूं आ रेहा सां
ते आपना गीत लै के
झुग्गियां वल्ल जा रेहा सां
ते झुक्या सीस तैनूं
अरप के मुसका रेहा सां

3. सफ़र

हुने सरघी दी 'वा ने
पंछियां दा बोल पीता है
ते जागी बीड़ ने
तेरे नाम दा इक वाक लीता है
मैं अज्ज तेरे गीत तों तलवार तक दा
सफ़र कीता है

मैनूं तेरे गीत तों
तलवार तक दा सफ़र करदे नूं
अजब जही शरम आई है
अजब जही प्यास लग्गी है
ते मैं तेरे गीत दे साहवें
नमोशी झोल अड्डी है
तैनूं तेरे गीत तों
तलवार तक दा सफ़र करदे नूं
पूरे दस जनम लग्गे सी
मैनूं इक पल ही लग्गा है
ते इहो सुलगदा पल ही
मैनूं मेरी उमर लग्गा है

मैं अज्ज दा सफ़र
तेरे वाक दे, जद साथ विच छोहआ
सदीवी भटकना लै के
जदों तेरे साहमने होया
मैं तेरे सूरजी चेहरे दी धुप्प विच
शरम थीं मोया
मैं आपने नगन परछावें दी छावें
बैठ के रोया
ते खंडरां वांग चुप्प होया

मैं तेरे गीत दे हरफ़ां दे
चुप्प जंगल 'चों जद लंघ्या
मैनूं अरथां ने आ डंग्या
मेरे मूंह विच गऊ दा मास
मेरे पेट थीं संग्या
ते मेरे दंभ दा बाबर
अनिशचित ख़ौफ़ थीं कम्ब्या

मैं जद जंगल दी संघनी चुप्प
लंघ के शहर विच आया
मैं आपने शोर तों डर्या
दिने ही घर परत आया

मैं घर आ के पहल वारी
तेरा अज्ज अरथ लभ्भ्या है
ते आपना दंभ कज्ज्या है
मेरे दिल विच पई तलवार नूं
बहु जंग लग्ग्या है
मेरे दिल विच पई तलवार नूं
बहु जंग लग्ग्या है

4. बुढ्ढा घर

है चिर होया
मेरा आपा मेरे संग रुस्स के
किते तुर ग्या है
ते मेरे कोल मेरा
सक्खना कलबूत बाकी है
ते मेरे घर दी हर दीवार 'ते
छायी उदासी है
है चिर होया
मेरा आपा मेरे संग रुस्स के
किते तुर ग्या है
ते मेरा घर उहदे तुर जान पिच्छों
झुर रेहा है।

उह अकसर बहुत डूंघी रात गए ही
घर परतदा सी
ते सूरज हुन्द्यां उह
घर द्यां भित्तां तों डरदा सी
उह केहड़े हिरन लंङे कर रेहा सी
कुझ ना दस्सदा सी
ते दिन भर आपणे
परछाव्यां पिच्छे ही नस्सदा सी

मैनूं उहदी देवदासी भटकणा
अकसर डरांदी सी
ते उहदी अक्ख दी वहशत
जिवें शीशे नूं खांदी सी
ते उहदी चुप्प
बुढ्ढे घर दे हुन जाले हिलांदी सी
मैं इक दिन धुप्प विच
उह घर दियां कंधां विखा बैठा
उह धुप्प विच रोंदियां कंधां दी गल्ल
सीने नूं ला बैठा
मैं ऐवें भुल्ल कंधां दी गल्ल
उस नूं सुना बैठा
ते उहदा साथ कंधां तों
हमेशा लई गवा बैठा

उह घर छड्डन तों पहलां उस दिन
हर खूंजे विच फिर्या
ते घर विच खंघ रहियां
बिमार सभ इट्टां दे गलीं मिल्या
ते उस मनहूस दिन पिच्छों
कदे उह घर ना मुड़्या

हुन जद वी रेल दी पटड़ी 'ते कोई
खुदकुशी करदै
जां टोला भिकशूआं दा
सिर मुनायी शहर विच चलदै
जां नकसलबाड़िया कोई
किसे नूं कतल जद करदै
तां मेरे घर दियां कंधां नूं
उस पल ताप आ चड़्हदै
ते बुढ्ढे घर दियां
बिमार इट्टां दा बदन ठरदै

इह बुढ्ढे घर दियां
बिमार इट्टां नूं भरोसा है
उह जिथे वी है जेहड़े हाल विच है
उह बेदोशा है
उहनूं घर 'ते नहीं
घर दियां कंधां 'ते रोसा है

है चिर होया
मेरा आपा मेरे संग रुस्स के
किते तुर ग्या है
ते मेरे कोल मेरा सक्खना कलबूत
बाकी है
जो बुढ्ढे घर दियां
हुन मर रहियां कंधां दा साथी है।

5. मुबारक

मैं तैनूं प्यारदा सां
प्यारदा हां
मैं तैनूं अज्ज वी सतिकारदा हां
मैं कल्ल्ह दा गीत तेरे सीस उत्तों वार्या सी
ते अज्ज दा गीत
तेरे गीत उत्तों वारदा हां
मैं तैनूं प्यारदा सां
प्यारदा हां ।

मैं कल्ल्ह दा गीत
तेरे सीस तों वार्या सी
मैं उस दे हर ज़ख़म नूं प्यार्या सी
उहदे हर शबद विच सी पीड़ ते शिकवे उलांभे
जमाने रोन लग्ग जांदे
उहदी इक सतर नूं गाउंदे
जदों उहदे शबद
मेरी मौत नूं आवाज़ देंदे
जां तेरी याद दे मोढे 'ते
सिर रक्ख रोवन बहन्दे
तां फ़रशों अरश तक
सभनां दे सीने धड़क जांदे
घणी, डूंघी, उदासी-चुप्प जही दे बंजरां विच
गुलाबी पीड़ दे
गुंचे उनाभी महक पैंदे
पर अज्ज मैं समझदां
उह महक ख़ुदगरज़ी दी बोय सी
जां कच्चे सूरजां दी
उमर दे मत्थे च लोय सी
तेरे भखदे जिसम दे फुल्ल लई
नज़रां दा मोह सी
मेरे मद्ध-वरग घर दी घुटन दा
मजबूर रोह सी
ना तूं सी हान जिस घर दे
ना तेरे हान जो सी
मैं हुन हर धुप्प छां नूं जाणदा हां
ते आपनी पीड़ नूं सनमाणदा हां
इह तेरी नज़र है तेरी है रहमत
मैं होया सूरजां दे हान दा हां ।

ते अज्ज मैं गीत
तेरे गीत तों जो वारदा हां
मैं कल्ल्ह दे गीत तों वी वद्ध इस नूं प्यारदा हां
इहदे पिंडे 'ते कोयी ज़रब
ना ही ज़ख़म है
सगों हर शबद दे नैणां च तेरी शरम है
इहदी हर ज़रब 'चों
इक महक-मुंजर झाकदी है
ते हर इक ज़ख़म सूहा फुल्ल बण के महकदा है
ते हर इक शबद
सूहे फुल्ल दी गोदी च बैठा
भरी आवाज़ विच
तैनूं मुबारक आखदा है ।

यो विछड़े गीत
मैं ख़ुदगरज़ियां नूं मारदा हां
मैं आपनी धुप्प नूं
आपनी ही छां विच ठारदा हां
तूं जेहड़ा शबद मेरे
गीत तों बलेहार्या सी
मैं ओहीयो शबद
तेरे गीत तों बलेहारदा हां
ते कल्ल्ह जो गीत लिखना है मैं हाले
तेरे ते गीत तेरे दे
जहां तों वारदा हां
जहां जिस विच
'मुहब्बत' शबद नूं अज्ज जित्त्या है
जहां जिस विच
'मुहब्बत' शबद मैं अज्ज हारदा हां
मैं तैनूं प्यारदा सां
प्यारदा हां
मैं तैनूं अज्ज वी सतिकारदा हां ।

6. गवाही

कल्ल्ह तक मैं उहदा आप गवाह सी
अज्ज तों इह मेरा गीत गवाह है
डूंघी पीड़ ते संघनी चुप्प दा
उह इक भर वहन्दा दर्या है

उहदे पिंडे 'चों काही ते
रेते दी ख़ुशबू आउंदी है
उहदे पत्तणां वरगे नैणां दे विच
हरदम धुन्द रहन्दी है
उहदी 'वाज़ मलाहां वरगी
सुन के देह कंड्या जांदी है
उहदे होठां ते कई वारी
बेले वरगी चुप्प छांदी है
ते उस चुप्प 'चों लंघन लग्ग्यां
दिल दी धड़कन रुक जांदी है
पिछले पैरीं मुड़ आउंदी है

इह इक बड़े चिरां दी गल्ल है
जदों उहदे सउले पानी विच
इक कोयी मछली सी रहन्दी
अजे उहदे पानी दी उमरा
मसां उहदे गल गल सी आउंदी
उह मछली उहदे पानी दे विच
सुपने घोल के अग्ग मचाउंदी
सिप्पियां घोगे चुंमदी रहन्दी
ते रेत दे घर विच रहन्दी
पर इक दिन उह चंचल मछली
किसे बे-दरद मछेरे फड़ लई
ते दर्या दी किसमत सड़ गई
उस दिन मगरों उस दर्या दा
पानी बड़ा उदास हो ग्या
गल गल पानी दी उमरे ही
उह दर्या बे-आस हो ग्या

हुन जद रात-बराते तारे
दर्या ते मूंह धोवन आउंदे
उह उहदी चुप्प कोलों डरदे
पानी दे विच पैर ना पाउंदे
ते कंढे 'ते ही बह रहन्दे
ते उह तकदे कि मच्छियां दे
नकश उहदे तों सहम ने खांदे
ते दर्या दे उज्जड़े नैणां
दे विच अग्ग दे हंझू आउंदे

आख़िर जद दर्या दी उमरा
सिर सिर पानी दे विच डुब्बी
मच्छियां दी तद बेपरवाही
उहनूं छिलतर वाकन चुभ्भी
ते उहदे कूले पिंडे उत्ते
गूहड़ी हरी मज़ूली उग्गी
ते उहदी इक आंदर सुज्जी

हुन जद बदकिसमत दर्या नूं
गल गल पानी याद आउंदा है
उसनूं उस मोयी मछली दा
विचों विच इक ग़म खांदा है
आपनी ही मिट्टी नूं आप
रात बराते ढाह लांदा है
आपने ही नैणां दे कूले
सुपने रोड़्ह के लै जांदा है

हुन लोकी उस दर्या नूं
इक ख़ूनी दर्या ने कहन्दे
हुन उहदे विच मच्छियां दी थां
भुक्खे मगरमच्छ ने रहन्दे
पिंड दे लोकी उस दर्या 'ते
जानो वी हुन ख़ौफ़ ने खांदे
पर अज्ज तों उहदे निरमल जल लई
मेरे गीत गवाही पांदे ।

7. बुढ्ढा शहर

बुढ्ढा शहर बुढेरे पंध
ग्या जुआनी चिर दी लंघ
अम्बर दे सिर पै ग्या गंज
ऐनक लावे बुढ्ढा चन्द

धरती खाधी भूरे जंग
कुब्बियां गलियां मारन लंङ
हूंघन तघे खड़ सुक्क जंड
बिरध मन्दर दा बैठा संघ
बोहड़ां हेठ पवे शतरंज
पीन पुजारी कल्लरी भंग
सूरज रोज़ जगावे रंग
मले दन्दासा अधखड़ कंध
घोरन्यां विच रहन्दे खंभ
लैन उबासी बूहे बन्द
गाए बिरहड़ा कच्ची तन्द
बागां दे विच गोरी जंघ
पींघ झुटेंदी काले अम्ब
डोली पिच्छे तुरदे हंझ
रोन किसे दे बाजू बन्द
हट्ट ललारी उड्डन रंग
विके बाज़ारी हाथी दन्द
एस शहर दी इको मंग
हर कोयी अपनी भीड़ तों तंग
पनघट बैठी धौली संझ
बुढ्ढी धुप्प नूं आवे संग
वेख के आपने आपे अंग
गान नदी दे थक्के वंझ
घर घर उभरे काली ठंढ
बुढ्ढे शहर नूं छिड़दी खंघ
पल पल मगरों परते कंड
नींद ना आवे चुभन डंग
बुढ्ढा शहर ज्युणों तंग ।

8. सोग

रोज़ मैं तारा तारा गिण
रात बिताउंदा हां
रोज़ मैं तेरे सिर तों सूरज
वार के आउंदा हां ।

जद रोहियां विच पंछी तड़के
वाक कोयी लैंदा है
मैं आपने संग सुत्ता आपणा
गीत जगाउंदा हां ।

फिर जद मैनूं सूरज घर दे
मोड़ 'ते मिलदा है
नदीए रोज़ नहावण
उहदे नाल मैं जांदा हां ।

मैं ते सूरज जदों नहा के
घर नूं मुड़दे हां
मैं सूरज लई वेहड़े निंम दा
पीहड़ा डाहुन्दा हां ।

मैं ते सूरज बैठ के जद फिर
गल्लां करदे हां
मैं सूरज नूं तेरी छां दी
गल्ल सुणाउंदा हां ।

छां दी गल्ल सुणाउंदे जद मैं
कम्बन लग्गदा हां
मैं सूरज दे गोरे गल विच
बाहवां पाउंदा हां ।

फिर जद सूरज मेरे घर दी
कंध उतरदा है
मैं आपने ही परछावें तों
डर डर जांदा हां ।

मैं ते सूरज घर दे मुड़
पिछवाड़े जांदे हां
मैं उहनूं आपने घर दी
मोयी धुप्प विखाउंदा हां ।

जद सूरज मेरी मोयी धुप्प लई
अक्खियां भरदा है
मैं सूरज नूं गल विच लै के
चुप्प कराउंदा हां ।

मैं ते सूरज फेर चुपीते
तुरदे जांदे हां
रोज़ मैं उहनूं पिंड दी जूह तक
तोर के आउंदा हां ।

रोज़ उदासा सूरज नदीए
डुब्ब के मरदा है
ते मैं रोज़ मरे होए दिन दा
सोग मनाउंदा हां ।

9. अरजोई

तूं जो सूरज चोरी कीता
मेरा सी
तूं जिस घर विच न्हेरा कीता
मेरा सी

इह जो धुप्प तेरे घर हस्से, मेरी है
इस दे बाझों मेरी उमर हनेरी है
इस विच मेरे ग़म दी महक बथेरी है
इह धुप्प कल्ल्ह सी मेरी, अज्ज वी मेरी है

मैं ही किरन-वेहूना इस दा बाबल हां
इस दे अंगीं मेरी अगन समोयी है
इस विच मेरे सूरज दी खुशबोयी है
सिख़र दुपहरे जिस दी चोरी होयी है

पर इस चोरी विच तेरा वी कुझ दोश नहीं
सूरज दी हर युग्ग विच चोरी जोयी है
रोंदी रोंदी सूरज नूं हर युग्ग अन्दर
कोयी ना कोयी सदा दुपहरी मोयी है

मैं निर-लोआ रिशम-विछुन्ना अरज़ करां
मैं इक बाप अधरमी तेरे दुआर खड़ां
आ हत्थीं इह सूरज तेरे सीस धरां
आ अज्ज आपनी धुप्प लई तेरे पैर फड़ां

मैं कलख़ायी देह, तूं मैनूं बख़श दईं
धुप्पां साहवें फिर ना मेरा नाम लवीं
जे कोयी किरन कदे कुझ पुच्छे चुप्प रव्हीं
जां मैनूं 'काला सूरज' कह के टाल दवीं

इह इक धुप्प दे बाबल दी अरजोयी है
मेरी धुप्प मेरे लई अज्ज तों मोयी है
सने सूरज तेरी अज्ज तों होयी है
धुप्प जिद्हे घर हस्से बाबल सोयी है

तूं जो सूरज चोरी कीता
तेरा सी
मेरा घर तां जनम-दिवस तों
न्हेरा सी ।

10. याद

दिल जिस दिन तैनूं याद करे
कुझ होर वी गोरी धुप्प चड़्हे
कुझ होर वी गूहड़ा सक्क मले

बुल्ल्हां 'ते सूहा सक्क मल के
सूरज दा गड़वा सीस धरे
ते पनघट उत्ते आण खड़े

सूरज दे ख़ाली गड़वे नूं
जद किरनां दी उह लज्ज वले
खूहां ते पानी बोल पवे

फिर गोरी कूली देही 'ते
चेतर दी टिक्की घोल मले
लै चुली चुली इशनान करे

फिर सीसा लै किसे सरवर दा
उह पट्टां दे विचकार धरे
उड्ड उड्ड पैंदे वाल फड़े

फिर उड्डदे मुशकी वालां विच
जद सूरज दा उह फुल्ल जड़े
उहनूं लोहड़े दा हाय रूप चड़्हे

इक डाह के चरखा अम्बर दा
धरती दे पीहड़े आण बहवे
ते कोह कोह लंमी तन्द वले

फिर किरनां कत्तदी कत्तदी दा
परछावां वेहड़े आण ढले
अंगड़ाईआं लैंदी उट्ठ खड़े

फिर धूड़ां मल्ले राहां 'ते
उह चुप्प-चुपीती आण बहवे
पैड़ां दे लिखे हरफ़ पड़्हे

पैड़ां दे हरफ़ पड़्हेंदी नूं
जद नज़रीं मेरी पैड़ पवे
उह अक्खां दे विच हंझ भरे

फिर चड़्ह गगनां दे कोठे 'ते
गड़वे 'चों पानी रोहड़ दवे
ते कुल्ल दुनियां ते रात पवे

11. इक चेहरा

उह जद मिलदा मुसकांदा
ते गल्लां करदा है
साद-मुरादा आशक चेहरा
झम झम करदा है
निरमल चोय दे जल विच
पुह दा सूरज तरदा है
कुहराईआं अक्खियां विच
घ्यु दा दीवा बलदा है
लोक गीत दा बोल
दन्दासी अग्ग विच सड़दा है
बूरीं आए अम्बां 'ते
पुरवई्ईआ वगदा है
झिड़ियां दे विच काला बद्दल
छम छम वर्हदा है
आशक, पीर, फ़कीर कोयी साईं
दोहड़े पड़्हदा है
तकीए उग्ग्या थोहर दा बूटा
चुप्प तों डरदा है
वणजारे दी अग्ग दा धूंआं
थेह 'ते तरदा है
मड़्हियां वाला मन्दर
रातीं गल्लां करदा है ।

12. हादसा

गीत दा तुरदा काफ़ला
मुड़ हो ग्या बेआसरा
मत्थे 'ते होनी लिख गई
इक ख़ूबसूरत हादसा ।

इक नाग चिट्टे दिवस दा
इक नाग काली रात दा
इक वरक नीला कर गए
किसे गीत दे इतेहास दा ।

शबदां दे काले थलां विच
मेरा गीत सी जद मर रेहा
उह गीत तेरी पैड़ नूं
मुड़ मुड़ प्या सी झाकदा ।

अम्बर दी थाली तिड़क गई
सुन ज़िकर मोए गीत दा
धरती दा छन्ना कम्ब्या
भर्या होया विशवास दा ।

ज़ख़मी है पिंडा सोच दा
ज़ख़मी है पिंडा आस दा
अज्ज फेर मेरे गीत लई
कफ़न ना मैथों पाटदा ।

अज्जफेर हर इक शबद दे
नैणां च हंझू आ ग्या
धरती ते करज़ा चड़्ह ग्या
मेरे गीत दी इक लाश दा ।

काग़ज़ दी नंगी कबर 'ते
इह गीत जो अज्ज सौं ग्या
इह गीत सारे जग्ग नूं
पावे वफ़ा दा वासता ।

13. सुनेहा

कल्ल्ह नवें जद साल दा
सूरज सुनहरी चड़्हेगा
मेरियां रातां दा तेरे
नां सुनेहा पड़्हेगा
ते वफ़ा दा हरफ़ इक
तेरी तली 'ते धरेगा ।

तूं वफ़ा दा हरफ़ आपणी
धुप्प विच जे पड़्ह सकी
तां तेरा सूरज मेरियां
रातां नूं सजदा करेगा
ते रोज़ तेरी याद विच
इक गीत सूली चड़्हेगा ।

पर वफ़ा दा हरफ़ इह
औखा है एडा पड़्हन नूं
रातां दा पैंडा झाग के
कोयी सिदक वाला पड़्हेगा
अक्खां च सूरज बीज के
ते अरथ इस दे करेगा।

तूं वफ़ा दा हरफ़ इह
पर पड़्हन दी कोशिश करीं
जे पड़्ह सकी तां इशक तेरे
पैर सुच्चे फड़ेगा
ते तार्यां दा ताज
तेरे सीस उपर धरेगा ।

इह वफ़ा दा हरफ़ पर
जे तूं किते ना पड़्ह सकी
तां मुड़ मुहब्बत 'ते कोई
इतबार कीकन करेगा
ते धुप्प विच इह हरफ़ पड़्हनों
हर ज़माना डरेगा ।

दुनिया दे आशक बैठ के
तैनूं ख़त जवाबी लिखणगे
पुच्छणगे एस हरफ़ दी
तकदीर दा की बणेगा
पुच्छणगे एस हरफ़ नूं
धरती 'ते केहड़ा पड़्हेगा ।

दुनिया दे आशकां नूं वी
उत्तर जे तूं ना मोड़्या
तां दोश मेरी मौत दा
तेरे सिर ज़माना मड़्हेगा
ते जग्ग मेरी मौत दा
सोगी सुनेहा पड़्हेगा ।

14. करज़

अज्ज दिन चड़्हआ तेरे रंग वरगा
तेरे चुंमन पिछली संग वरगा
है किरनां दे विच नशा जेहा
किसे छींबे सप्प दे डंग वरगा
अज्ज दिन चड़्हआ तेरे रंग वरगा

मैं चाहुन्दां अज्ज दा गोरा दिन
तारीख़ मेरे नां कर देवे
इह दिन तेरे अज्ज रंग वरगा
मैनूं अमर जहां विच कर देवे
मेरी मौत दा जुरम कबूल करे
मेरा करज़ तली 'ते धर देवे
इस धुप्प दे पीले काग़ज़ 'ते
दो हरफ़ रसीदी कर देवे

मेरा हर देहुं दे सिर करज़ा है
मैं हर देहुं तों कुझ लैना है
जे ज़रबां देवां वहियां नूं
तां लेखा वधदा जाना है
मेरे तन दी कल्ली किरन लई
तेरा सूरज गहने पैना है
तेरे चुल्ल्हे अग्ग ना बलनी है
तेरे घड़े ना पानी रहना है
इह दिन तेरे अज्ज रंग वरगा
मुड़ दिन-दीवीं मर जाना है

मैं चाहुन्दां अज्ज दा गोरा दिन
अण्यायी मौत ना मर जावे
मैं चाहुन्दां इस दे चानन तों
हर रात कुलहनी डर जावे
मैं चाहुन्दां किसे तिजोरी दा

सप्प बण के मैनूं लड़ जावे
जो करज़ मेरा है सम्यां सिर
उह बेशक्क सारा मर जावे
पर दिन तेरे अज्ज रंग वरगा
तारीख़ मेरे नां कर जावे
इस धुप्प दे पीले काग़ज़ 'ते
दो हरफ़ रसीदी कर जावे

15. पिछवाड़ा

रोज़ मेरे घर दे पिछवाड़े
काली धुप्प च चमकन तारे
फैले खोले, कबरां, वाड़े
सहमी चुप्प आवाज़ां मारे
भूतां वाले सूर दे साड़े
सूरज रोवे नदी किनारे
उप्पर पानी हेठ अंगारे
टीरा बद्दल वर्हदा मेरे
थेह 'ते कौडी लिशकां मारे
बुढ्ढे रुक्ख 'ते लंमे दाड़्हे
उल्लू बोलन सिख़र दुपेहरे
अन्न्हे खूह विच पंछी काले
चिर तों वस्सन कल्ले-कारे
हुभकां मारन मोए देहाड़े
सिर ते गिरझां खंभ खिलारे
मारो मेरे घर नूं ताले
उच्चियां कंधां करो दुआले
कोयी ना मेरे चड़्हे चुबारे
कोयी ना वेखे हुन पिछवाड़े।

16. मसीहा

मैं दोसती दे जशन 'ते
इह गीत जो अज्ज पड़्ह रेहां
मैं दोसतां दी दोसती
दी नज़र इस नूं कर रेहां
मैं दोसतां लई फेर अज्ज
इक वार सूली चड़्ह रेहां ।

मैं एस तों पहलां कि अज्ज दे
गीत दी सूली चड़्हां
ते इस गुलाबी महकदे
मैं जशन नूं सोगी करां
मैं सोचदा कि जुलफ़ दा नहीं
ज़ुलम दा नग़मा पड़्हां
ते दोसतां दी तली 'ते
कुझ सुलगदे अक्खर धरां ।

दोसतो अज्ज दोसती दी
पोह-सुदी संगरांद 'ते
इह जो मैं अज्ज अग्ग दे
कुझ शबद भेटा कर रेहां
मैं जो गीतां दा मसीहा
फेर सूली चड़्ह रेहां
मैं दोसती दा ख़ूबसूरत
फ़रज पूरा कर रेहां
मैं दोसती दे मौसमां दा
रंग गूड़्हा कर रेहां ।

दोसतो इस अग्ग दे
ते धुप्प दे तहवार 'ते
मैं वेखदां कि साड्यां
लहूआं दा मौसम सरद है
मैं वेखदां कि हक्क लई
उट्ठी होयी आवाज़ दे
शबदां दा सिक्का सीत है
बोलां दा लोहा सरद है
मैं वेखदा कि चमन विच
आई होयी बहार दे
होठां 'ते डूंघी चुप्प है
अक्खां च गूहड़ा दरद है
दोसतो अज दोसती दे
सूरजी इस दिवस 'ते
इह जिन्दगी दी ज़िन्दगी दे
वारसां नूं अरज़ है
कि जिन्दगी इक ख़ाब नहीं
सगों जिन्दगी इक फ़रज़ है ।

जिन्दगी दे वारसो
इस फ़रज़ नूं पूरा करो
ते दोसती दे रंग नूं
कुझ होर वी गूहड़ा करो
इह जो साडी दोसती दा
सरद मौसम आ गिऐ
एस मौसम दी तली 'ते
सुलगदे सूरज धरो
ते जिन्दगी दे अमल, इशक
सच्च, सुहज, ग्यान दी
शौक दे शिवाल्यां 'च
बैठ के पूजा करो
ते जिन्दगी दे कातलां नूं
कूक के अज्ज इह कहो
कि जिन्दगी दे अरथ
बहु-हुसीन ने आउ पड़्हो
ते आउन वाले सूरजां दी
धुप्प ना ज़खमी करो ।

दोसतो अज्ज सुरख़ तों
सूहे दुपहरे-लहू दा
उमर दे धुप्याए
पत्तणां 'ते जो मेला हो रेहै
दोसतो गुलनार, गूड़्ह
ते हिनाए-शौक दा
ते हुसन दी मासूमियत दा
पुरब जो अज्ज हो रेहै
दोसतो सूही मुहब्बत
दे शराबी ज़िकर दा
ते अज्ज सुनहरे दिलां दा
जो शोर उच्ची हो रेहै
मैं शोर विच वी सुन रेहां
इक हरफ़ बैठा रो रेहै
इक दोसती दा हरफ़
जेहड़ा रोज़ ज़ख़मी हो रेहै ।

दोसतो इस हरफ़ नूं
हुन होर ज़ख़मी ना करो
आउन वाले सूरजां दी
धुप्प दी राखी करो
इह जो साडी खुदकशी दा
सरद मौसम आ रेहै
एस मौसम तों बचन दा
कोयी तां हीला करो
एस मौसम दी तली 'ते
कोयी तां सूरज धरो ।

दोसतो अज्ज दोसती दी
अरगवानी शाम 'ते
जे दोसत मेरे गीत दे
अज्ज पाक हरफ़ पड़्ह सके
जे दोसत अज्ज दी दोसती
दी मुसकरांदी शाम 'ते
जे जंग दे ते अमन दे
अज्ज ठीक अरथ कर सके
तां दोसतां दी कसम है
मैं दोसतां लई मरांगा
मैं दोसती दे मौसमां नूं
होर गूहड़ा करांगा
मैं मसीहा दोसती दा
रोज़ सूली चड़्हांगा।
दोसतो ओ महरमों
यो साथीयो ओ बेलीओ
मैं मुहब्बत दी कसम खा के
इह वाअदा कर रेहां
मैं दोसती दे नाम तों
सभ कुझ निछावर कर रेहां
ते इनकलाब आउन तक
मैं रोज़ सूली चड़्ह रेहां ।

17. आवाज़

नहरू दे वारसो सुणो
आवाज़ हिन्दुसतान दी ।
गांधी दे पूजको सुणो
आवाज़ हिन्दुसतान दी ।
वतन दे राहबरो सुणो
आवाज़ हिन्दुसतान दी ।
आवाज़ जो बग़ावतां
ते होणियां दे हान दी ।
आवाज़ जो है खुदकशी
दे मौसमां दे आउन दी ।

सुनो सुनो इह बसतियां दे
मोड़ कीह ने आखदे ?
क्युं काग़ज़ां 'ते उग्गदे ने
रोज़ सूहे हादसे ?
क्युं सुरखियां 'चों झाकदे ने
नकश साडी लाश दे ?
सुनो सुनो आवाज़ है इह
इनकलाब आउन दी ।
आवाज़ है इह आ रही
लोहे नूं धार लाउन दी
आवाज़ है इह मालियां दे
खुद चमन जलाउन दी
सुनो सुनो आवाज़ मेरे
गीत इस उदास दी ।
जो हंझूआं च बोलदी
ते हौक्यां च आखदी
सुनो आवाज़ चुल्ल्हआं 'चों
सरद होयी राख दी
सुनो आवाज़ झुग्गियां 'चों
झुरड़ गए मास दी
सुनो आवाज़ मेहनतों मत्थे
लिखी बारात दी ।
सुनो आवाज़ हर किरन दी
रौशनी 'चों रात दी ।
सुनो आवाज़ ज्युंद्यां जी
ज़िन्दगी 'चों लाश दी ।
सुनो आवाज़ मर ग्यां दी
मौत 'चों सुआस दी ।
सुनो सुनो आवाज़ इह
ज़बान बे-ज़बान दी ।
आवाज़ है इह हक्क दी
ते हक्क नूं दबाउन दी ।
आवाज़ है इह गुरबतां
ते वैन डूंघे पाउन दी ।

सुनो सुनो इह कौन ने,
जो लोक नाअरे मारदे ?
जो आपने ही देश दी
पए आबरू लिताड़दे
जो आपनी ही कौम दे
नसीब पए विगाड़दे ?
जो आपने इमान नूं
पए आप ने वंगारदे ?
जो आपनी ही बीड़
ते अंजील पए ने पाड़दे ?
जो आपने ही गौतमां दा
फ़लसफ़ा पए साड़दे ?
सुनो सुनो आवाज़ इह
वतन नूं मिटाउन दी ।
आवाज़ है इह वहशतां दे
खून मूंह नूं लाउन दी ।
आवाज़ काली रात विच
दीवा किते बुझाउन दी ।
आवाज़ साडे हुसन दे
मत्थे झरीट आउन दी ।

सुनो सुनो आवाज़ कि
इह दूर निकल जाए ना ?
इह अग्ग बण के साड्यां
महलां नूं साड़ जाए ना ।
इह शोर बण के साडियां
गलियां च फैल जाए ना ।
असपात बण के साड्यां
खेतां च उग्ग आए ना ।
दीवानी हो के झुग्गियां 'चों
बाहर निकल आए ना ।
सुनो सुनो आवाज़ है इह
दरद ते थकान दी ।
आवाज़ है नदुधियां
इह छातियां चुंघान दी ।
आवाज़ है इह लोरियां नूं
भुक्ख्यां सुलान दी

सुनो सुनो आवाज़ इह
कि वकत दा सवाल है ।
कि फेर साडे तार्यां दा
आ रेहा ज़वाल है ।
कि फेर साडे सूरजां नूं,
खा रेहा जंगाल है ।
कि फेर साडे वतन दे,
मूंह 'ते कोयी मल्लाल है ।
कि फेर साडी आबरू दा
झौं रेहा गुलाल है ।
सुनो सुनो आवाज़ है
इह हिन्द दे आवाम दी ।
आवाज़ हिन्दू, सिक्ख ते
ईसायी मुसलमान दी
आवाज़ इह कुरान दी
आवाज़ इह पुरान दी ।

नहरू दे वारसो तुसां
जे इह आवाज़ ना सुणी
तां इह आवाज़ पत्थरां दा
रूप धार जाएगी
गांधी दे पूजको तुसां
जे इह आवाज़ ना सुणी
तां इह आवाज़ दामनां दी
आब पाड़ खाएगी ।
वतन दे राहबरो तुसां
जे इह आवाज़ ना सुणी
तां इह आवाज़ ख़ून दी
हवाड़ लै के आएगी ।
सुनो आवाज़ आपणे
ग़रीब हिन्दुसतान दी ।
सुनो आवाज़ आपणे
बीमार हिन्दुसतान दी ।
आवाज़ जो है खुदकशी
दे मौसमां दे आउन दी ।

18. बिरहड़ा

लोकीं पूजन रब्ब
मैं तेरा बिरहड़ा
सानूं सौ मक्क्यां दा हज्ज
वे तेरा बिरहड़ा ।

लोक कहन मैं सूरज बण्या
लोक कहन मैं रोशन होया
सानूं केही ला ग्या अग्ग
वे तेरा बिरहड़ा ।

पिच्छे मेरे मेरा सायआ
अग्गे मेरे मेरा न्हेरा
किते जाए ना बाहीं छड्ड
वे तेरा बिरहड़ा ।

ना इस विच किसे तन दी मिट्टी
ना इस विच किसे मन दा कूड़ा
असां चाड़्ह छटायआ छज्ज
वे तेरा बिरहड़ा ।

जद वी ग़म दियां घड़ियां आईआं
लै के पीड़ां ते तनहाईआं
असां कोल बिठायआ सद्द
वे तेरा बिरहड़ा ।

कदी तां साथों शबद रंगावे
कदी तां साथों गीत उणावे
सानूं लक्ख सिखा ग्या चज्ज
वे तेरा बिरहड़ा ।

जद पीड़ां मेरे पैरीं पईआं
सिदक मेरे दे सदके गईआं
तां वेखन आया जग्ग
वे तेरा बिरहड़ा ।

असां जां इशकों रुतबा पायआ
लोक वधाईआं देवन आया
साडे रोया गल नूं लग्ग
वे तेरा बिरहड़ा ।

मैनूं तां कुझ अकल ना काई
दुनियां मैनूं दस्सन आई
सानूं तख़त बिठा ग्या अज्ज
वे तेरा बिरहड़ा ।

सानूं सौ मक्क्यां दा हज्ज
वे तेरा बिरहड़ा ।

19. दान

पापी पहर सु रात दा
मैं सुत्ती ते साह जागदा
मेरी सुंझी सक्खनी सेज 'ते
डंग जागे तन दे नाग दा

मेरा सन्दली शबद तां सौं ग्या
मूंह वेखे बिनां ख़ुआब दा
पर चानन चिट्टी रात विच
मेरा गीत अजे वी जागदा

मेरे गीत दी सुक्की शाख़ 'ते
उह शबद कदे ना बैठ्या
जो दरद भरी आवाज़ विच
किसे मीत नूं वाजां मारदा

मैनूं कोयी शबद ना जाणदा
जो गीत मेरे दे हान दा
जो पीड़ मेरी नूं समझदा
जो मेरा दरद पछाणदा
कोयी चन्दनी शबद ना लभ्भदा
ना सौंफी शबद कोयी अहुड़दा
जेहड़ा इस मेरे गीत तों
मोती दा पानी वारदा
कोयी गीत नूं लै जाए तोड़ के
जां शबद दवे इक मोड़ के
मेरा हंझू तरले कढ्ढदा
मेरा हउका अरज़ गुज़ारदा
मेरे वड्ड कुआरे गीत नूं
मेरे निर-शबदे इस गीत नूं
कोयी दान दवे इक शबद दा
कोयी दान दवे आवाज़ दा
इक कल्ले शबद दी घाट तों
इक कल्ले शबद दी थोड़ तों
रुक्ख खड़ा-खलोता सुक्क्या
मेरी गीतां भरी बहार दा
पापी पहर सु रात दा
मैं सुत्ती ते साह जागदा
मेरी सुंझी सक्खनी सेज 'ते
डंग जागे तन दे नाग दा ।

20. लोहे दा शहर

लोहे दे इस शहर विच
पित्तल दे लोक रहन्दे
सिक्के दा बोल बोलण
शीशे दा वेस पाउंदे

जिसती इहदे गगन 'ते
पित्तल दा चड़्हदा सूरज
तांबे दे रुक्खां उप्पर
सोने दे गिरझ बहन्दे

इस शहर दे इह लोकी
ज़िन्दगी दी हाड़ी साउणी
धूएं दे वढ्ढ वाह के
शरमां ने बीज आउंदे

चांदी दी फ़सल निस्सरे
लोहे दे हड्ड खा के
इह रोज़ चुगन सिट्टे
जिसमां दे खेत जांदे
इस शहर दे इह वासी
बिरहा दी जून आउंदे
बिरहा हंढा के सभ्भे
सक्खने दी परत जांदे

लोहे दे इस शहर विच
अज्ज ढार्यां दे उहले
सूरज कली करायआ
लोकां ने नवां कहन्दे
लोहे दे इस शहर विच
लोहे दे लोक रहसण
लोहे दे गीत सुणदे
लोहे दे गीत गाउंदे
लोहे दे इस शहर विच
पित्तल दे लोक रहन्दे
सिक्के दे बोल बोलण
शीशे दा वेश पाउंदे

21. इशतेहार

इक कुड़ी जिद्हा नां मुहब्बत
गुंम है-गुंम है-गुंम है ।
साद-मुरादी सोहनी फब्बत
गुंम है-गुंम है-गुंम है ।

सूरत उस दी परियां वरगी
सीरत दी उह मरियम लगदी
हस्सदी है तां फुल्ल झड़दे ने
टुरदी है तां ग़ज़ल है लगदी
लंम-सलंमी सरू कद्द दी
उमर अजे है मर के अग्ग दी
पर नैणां दी गल्ल समझदी ।

गुंम्यां जनम जनम हन होए
पर लग्गदै ज्युं कल्ल्ह दी गल्ल है
इउं लग्गदै ज्युं अज्ज दी गल्ल है
इउं लग्गदै ज्युं हुन दी गल्ल है
हुन तां मेरे कोल खड़ी सी
हुन तां मेरे कोल नहीं है
इह कीह छल है इह केही भटकण
सोच मेरी हैरान बड़ी है
नज़र मेरी हैरान बड़ी है
चेहरे दा रंग फोल रही है
योस कुड़ी नूं टोल रही है ।

शाम ढले बाज़ारां दे जद
मोड़ां 'ते ख़ुशबू उग्गदी है
वेहल, थकावट, बेचैनी जद
चौराहआं 'ते आ जुड़दी है
रौले लिप्पी तनहायी विच
योस कुड़ी दी थुड़ खांदी है
योस कुड़ी दी थुड़ दिसदी है

हर छिन मैनूं इउं लग्गदा है
हर दिन मैनूं इउं लग्गदा है
जुड़े जशन ते भीड़ां विचों
जुड़ी महक दे झुरमट विचों
उह मैनूं आवाज़ दवेगी
मैं उहनूं पहचान लवांगा
उह मैनूं पहचान लवेगी
पर इस रौले दे हड़्ह विचों
कोयी मैनूं आवाज़ ना देंदा
कोयी वी मेरे वल्ल ना विंहदा
पर ख़ौरे क्युं टपला लग्गदा
पर ख़ौरे क्युं झउला पैंदा
हर दिन हर इक भीड़ जुड़ी 'चों,
बुत्त उहदा ज्युं लंघ के जांदा
पर मैनूं ही नज़र ना आउंदा
गुंम गई मैं ओस कुड़ी दे
चेहरे दे विच गुंम्या रहन्दा
उस दे ग़म विच घुलदा रहन्दा
उस दे ग़म विच खुरदा जांदा ।

योस कुड़ी नूं मेरी सौंह है
योस कुड़ी नूं सभ दी सौंह है
योस कुड़ी नूं जग्ग दी सौंह है
योस कुड़ी नूं रब्ब दी सौंह है
जे किते पड़्हदी सुणदी होवे
ज्यूंदी जां उह मर रही होवे
इक वारी आ के मिल जावे
वफ़ा मेरी नूं दाग़ ना लावे
नहीं तां मैथों जिया ना जांदा
गीत कोयी लिख्या ना जांदा

इक कुड़ी जिद्हा नां मुहब्बत
गुंम है-गुंम है-गुंम है
साद-मुरादी सोहनी फब्बत
गुंम है-गुंम है-गुंम है ।

22. उधाला

कोठे चड़्ह के कत्तन लग्गी
आ पूनी नूं अग्ग पई
पहलां घर 'चों धूंआं उठ्या
फिर गलियां नूं लग्ग गई

गूंज ग्या उहदे तन दा बेला
आ रांझन दी सद्द पई
अक्खियां ने मंग्या मुकलावा
बुल्ल्हां नूं वेहु लग्ग गई

पट्टां दे विच पईआं पींघां
हुसन जवानी रज्ज गई
बैठी मरासन पीहन वटणा
अक्ख नैन दी फब गई

अद्धीं रातीं पहीए चीके
केहड़े पेहे गड्ड गई
बुढ्ढे झाटे करन सलाहां
सारे पिंड दी लज्ज गई

लग्गी अग्ग मेहना वज्जा
हत्थकड़ियां विच बझ्झ गई
पर सम्यां दी अलक वछेरी
किल्ले, पट्ट भज्ज गई

23. किसमत

अज्ज किसमत मेरे गीतां दी
है किस मंज़िल 'ते आण खड़ी
जद गीतां दे घर न्हेरा है
ते बाहर मेरी धुप्प चड़्ही ।

इस शहर च मेरे गीतां दा
कोयी इक चेहरा वी वाकफ़ नहीं
पर फिर वी मेरे गीतां नूं
आवाज़ां देवे गली गली ।

मैनूं लोक कहन मेरे गीतां ने
महकां दी जून हंढायी है
पर लोक विचारे की जानण
गीतां दी विथ्या दरद भरी ।

मैं हंझू हंझू रो रो के
आपनी तां अउध हंढा बैठां
किंज अउध हंढावां गीतां दी
जिन्हां गीतां दी तकदीर सड़ी ।

बदकिसमत मेरे गीतां नूं
किस वेले नींदर आई है
जद दिल दे वेहड़े पीड़ां दी
है गोडे गोडे धुप्प चड़्ही ।

इक सूरज ने मेरे गीतां नूं
किरनां दी दाअवत जद आखी
इक बुरकी मिस्से चानन दी
गीतां दे संघ विच आण अड़ी ।

मेरे गीतां भरी कहानी दा
क्या अंत ग़ज़ब दा होया है
जद आई जवानी गीतां 'ते
गीतां दी अरथी उट्ठ चल्ली ।

24. डर

जेठ हाड़ दी
बलदी रुत्ते
पीली पित्तल रंगी धुप्पे
मड़्हियां वाले
मन्दर उत्ते
बैठी चुप्प त्रिंजन कत्ते
धुप्प-छावां दा
मुढ्ढा लत्थे
गिरझां दा परछावां नस्से
नंगी डैण
पयी इक नच्चे
पुट्ठे थण मोढे 'ते रक्खे
छज्ज पौन दा
कल्लर छट्टे
बोदी वाला वावरोला
रक्कड़ दे विच चक्कर कट्टे
हल्लन पए
थोहरां दे पत्ते
विच करीरां सप्पनी वस्से
मकड़ियां दे
जाल पलच्चे
अक्क कक्कड़ी दे फंभ्यां ताईं
भूत भूताणा
मारे धक्के
बुढ्ढे बोहड़ दियां खोड़ां विच
चाम चड़िक्कां दित्ते बच्चे
मड़्हियां वाला
बाबा हस्से
पाटे कन्न भबूती मत्थे
ते मेरे ख़ाबां दे बच्चे
डर थीं सहमे
जावन नस्से
नंगे पैर धूड़ थीं अट्टे
दिल धड़कण
ते चेहरे लत्थे
पीली पित्तल रंगी धुप्प दा
दूर दूर तक
मींह प्या वस्से

25. चीर हरन

मैं सारा दिन कीह करदा हां
आपने परछावें फड़दा हां
आपनी धुप्प विच ही सड़दा हां

हर देहुं दे दुरयोधन अग्गे
बेचैनी दी चौपड़ धर के
मायूसी नूं दाय 'ते ला के
शरमां दी दरोपद हरदा हां
ते मैं पांडव एस सदी दा
आपना आप दुशासन बण के
आपना चीर-हरन करदा हां
वेख नगन आपनी कायआं नूं
आपे तों नफरत करदा हां
नंगे होणों बहुं डरदा हां
झूठ कपट दे कज्जन ताईं
लक्ख उस 'ते परदे करदा हां
दिन भर भटकन दे जंगल विच
पीले जिसमां दे फुल्ल सुंघदा
शुहरत ते सरवर 'ते घुंमदा
बेशरमी दे घुट्ट भरदा हां
यारां दे सुन बोल कुसैले
फिटकारां संग होए मैले
बुझे दिल 'ते नित्त जरदा हां
मैं ज़िन्दगी दे महांभारत दा
आप इक्कला युद्ध लड़दा हां
किसमत वाले व्यूह-चक्कर विच
आपने ख़ाबां दा अभिमन्न्यू
जैदरथ सम्यां दे हत्थों
वेख के मर्या नित्त सड़दा हां
ते प्रतिग्ग्या नित्त करदा हां
कल्ल्ह दा सूरज डुब्बन तीकण
सारे कौरव मार द्यांगा
जां मर जान दा प्रन करदा हां
पर ना मारां ना मरदा हां
आपने पाले विच ठरदा हां
ते बस्स एस नमोशी विच ही
कौरवां दा रत्थ हिक्कदे हिक्कदे
ज़िल्लत दे विच पिसदे पिसदे
रात दे काले तम्बूआं अन्दर
हार हुट्ट के आ वड़दा हां
नींद दा इक सप्प पाल के
आपनी जीभे आप लड़ा के
बेहोशी नूं जा फड़दा हां
मैं सारा दिन कीह करदा हां
आपने परछावें फड़दा हां
आपना आप दुशासन बण के
आपना चीर हरन करदा हां

26. की पुच्छद्यु हाल फ़कीरां दा

की पुच्छद्यु हाल फ़कीरां दा
साडा नदीयों विछड़े नीरां दा
साडा हंझ दी जूने आयां दा
साडा दिल जल्यां दिलगीरां दा

इह जाणद्यां कुझ शोख़ जहे
रंगां दा ही नां तसवीरां है
जद हट्ट गए असीं इशके दी
मुल्ल कर बैठे तसवीरां दा

सानूं लक्खां दा तन लभ्भ ग्या
पर इक दा मन वी ना मिल्या
क्या लिख्या किसे मुकद्दर सी
हत्थां दियां चार लकीरां दा

तकदीर तां आपनी सौंकन सी
तदबीरां साथों ना होईआं
ना झंग छुट्ट्या ना कन्न पाटे
झुंड लंघ ग्या इंज हीरां दा

मेरे गीत वी लोक सुणींदे ने
नाले काफ़र आख सदींदे ने
मैं दरद नूं काअबा कह बैठा
रब्ब नां रक्ख बैठा पीड़ां दा

मैं दानशवरां सुणींद्यां संग
कयी वार उच्ची बोल प्या
कुझ मान सी सानूं इशके दा
कुझ दाअवा वी सी पीड़ां दा

तूं ख़ुद नूं आकल कहन्दा हैं
मैं ख़ुद नूं आशक दस्सदा हां
इह लोकां 'ते छड्ड देईए
किनूं मान ने देंदे पीरां दा ।

27. गीत उधारा होर द्यु

सानूं प्रभू जी
इक अद्ध गीत उधारा होर द्यु
साडी बुझदी जांदी अग्ग
अंगारा होर द्यु
मैं निक्की उमरे सारा दरद
हंढा बैठां
साडी जोबन रुत्त लई
दरद कुआरा होर द्यु

गीत द्यु मेरे जोबन वरगा
सउला टूणे-हारा
दिन चड़्हदे दी लाली दा ज्युं
भर सरवर लिशकारा
रुक्ख-वेहूने थल विच्च जीकण
पहला संझ दा तारा
संझ होयी साडे वी थल थीं
इक अद्ध तारा होर द्यु
जां सानूं वी लाली वाकण
भर सरवर विच खोर द्यु

प्रभ जी देहुं बिन मीत तां बीते
गीत बिनां ना बीते
अउध हंढानी हर कोयी जाणे
दरद नसीबीं सीते
हर पत्तन दे पानी प्रभ जी
केहड़े मिरगां पीते
साडे वी पत्तणां दे पाणी
अणपीते ही रोड़्ह द्यु
जां जो गीत लिखाए साथों
उह वी प्रभ जी मोड़ द्यु

प्रभ जी रूप ना कदे सलाहीए
जेहड़ा अग्ग तों ऊणा
उस अक्ख दी सिफ़त ना करीए
जिस दा हंझ अलूणा
दरद विछुन्ना गीत ना कहीए
बोल जो साडा महक-वेहूणा
तां डाली तों तोड़ द्यु
जां सानूं साडे जोबन वरगा
गीत उधारा होर द्यु
मैं निक्की उमरे सारा दरद
हंढा बैठां
साडी जोबन रुत्त लई
दरद कुआरा होर द्यु

28. सिखर दुपहर सिर 'ते

सिखर दुपहर सिर 'ते
मेरा ढल चल्ल्या परछावां
कबरां उडीकदियां
मैनूं ज्युं पुत्तरां नूं मावां

ज़िन्दगी दा थल तपदा
कल्ले रुक्ख दी होंद विच मेरी
दुक्खां वाली गहर चड़्ही
वगे ग़मां वाली तेज़ हनेरी
मैं वी केहा रुक्ख चन्दरा
जेहनूं खा गईआं उहदियां छावां
कबरां उडीकदियां
मैनूं ज्युं पुत्तरां नूं मावां

हजरां च सड़दे ने
सुक्खे रोट ते सुक्खियां चूरियां
उमरां तां मुक्क चलियां
पर मुक्कियां ना तेरियां वे दूरियां
रज्ज रज्ज झूठ बोल्या
मेरे नाल चन्दर्या कावां
कबरां उडीकदियां
मैनूं ज्युं पुत्तरां नूं मावां

लोकां मेरे गीत सुन लए
मेरा दुक्ख तां किसे वी ना जाण्या
लक्खां मेरा सीस चुंम गए
पर मुखड़ा ना किसे वी पछाण्या
अज एसे मुखड़े तों
प्या आपना मैं आप लुकावां
कबरां उडीकदियां
मैनूं ज्युं पुत्तरां नुं मावां
सिखर दुपेहर सिर 'ते
मेरा ढल चल्ल्या परछावां

29. ज़ख़म

(चीनी हमले समें )

सुण्युं वे कलमां वाल्यु
सुण्युं वे अकलां वाल्यु
सुण्युं वे हुनरां वाल्यु
है अक्ख चुभ्भी अमन दी
आइउ वे फूकां मार्यु
इक दोसती दे ज़खम 'ते
सांझां दा लोगड़ बन्न्ह के
सम्यां दी थोहर पीड़ के
दुद्धां दा छट्टा मार्यु

वेहड़े असाडी धरत दे
तारीख़ टूना कर गई
सेहे दा तक्कला गड्ड के
साहां दे पत्तर वढ्ढ के
हड्डियां दे चौल डोहल के
नफरत दी मौली बन्न्ह के
लहूआं दी गागर धर गई
यो साथीयो, ओ बेलीओ
तहज़ीब ज्यूंदी मर गई ।

इख़लाक दी अड्डी 'ते मुड़
वहशत दा बिसियर लड़ ग्या
इतेहास दे इक बाब नूं
मुड़ के ज़हर है चड़्ह ग्या
सद्द्यो वे कोयी मांदरी
सम्यां नूं दन्दल पै गई
सद्द्यो वे कोयी जोगिया
धरती नूं गश है पै गई
सुक्खो वे रोट पीर दे
पिप्पलां नूं तन्दां कच्चियां
आउ वे इस बारूद दी
वरमी ते पाईए लस्सियां
यो दोसतों, ओ महरमो
काहनूं इह अग्गां मच्चियां

हाड़ा जे देशां वाल्यो
हाड़ा जे कौमां वाल्यो
यो ऐटमां द्यु ताजरो
बारूद दे वणजार्यु
हुन होर ना मनुक्ख सिर
लहूआं दा करज़ा चाड़्हउ
है अक्ख चुभ्भी अमन दी
आइउ वे फूकां मार्यु
हाड़ा जे कलमां वाल्यु
हाड़ा जे अकलां वाल्यु
हाड़ा जे हुनरां वाल्यु

30. मरसिया

(पं: नहरू दी अंतिम विदा वेले)

अज्ज अमनां दा बाबल मर्या
सारी धरत नड़ोए आई
ते अम्बर ने हौका भर्या
इंझ फैली दिल दी ख़शबोई

ईकन रंग सोग दा चड़्हआ
जीकन संघने वण विच्च किधरे
चन्दन दा इक्क बूटा सड़्या
तहज़ीबां ने फूहड़ी पाई

तवारीख़ दा मत्था ठर्या
मज़्हबां नूं अज्ज आई त्रेली
कौमां घुट्ट कलेजा फड़्या
राम रहीम गए पथराए

हरमन्दर दा पानी डर्या
फेर किसे मरियम दा जायआ
अज्ज फ़रज़ां दी सूली चड़्हआ
अज्ज सूरज दी अरथी निकली

अज्ज धरती दा सूरज मर्या
कुल्ल लोकायी मोढा दित्ता
ते नैणां विच्च हंझू भर्या
पैन मनुक्खता ताईं दन्दलां

काला दुक्ख ना जावे जर्या
रो रो मारे ढिड्डीं मुक्कियां
दसे दिशावां सोगी होईआं
ईकन चुप्प दा नाग है लड़्या

ज्युं धरती ने अज्ज सूरज दा
रो रो के मरसिया पड़्हआ
अज्ज अमनां दा बाबल मर्या
सारी धरत नड़ोए आई
ते अम्बर ने हौका भर्या

31. रोग बण के रह ग्या

रोग बण के रह ग्या है प्यार तेरे शहर दा
मैं मसीहा वेख्या बिमार तेरे शहर दा ।

इहदियां गलियां मेरी चड़्हदी जवानी खा लई
क्युं करां न दोसता सतिकार तेरे शहर दा ।

शहर तेरे कदर नहीं लोकां नूं सुच्चे प्यार दी
रात नूं खुल्ल्हदा है हर बाज़ार तेरे शहर दा ।

फेर मंज़िल वासते इक पैर ना पुट्ट्या ग्या
इस तर्हां कुझ चुभ्या कोयी खार तेरे शहर दा ।

जित्थे मोयां बाअद वी कफ़न नहीं होया नसीब
कौन पाग़ल हुन करे इतबार तेरे शहर दा ।

एथे मेरी लाश तक्क नीलाम कर दित्ती गई
लत्थ्या करज़ा ना फिर वी यार तेरे शहर दा ।

32. मैं अधूरे गीत दी इक सतर हां

मैं अधूरे गीत दी इक सतर हां
मैं अपैरी-पैड़ दा इक सफ़र हां

इशक ने जो कीतिया बरबादियां
मै उहनां बरबादियां दी सिख़र हां

मैं तेरी महफ़ल दा बुझ्या इक चिराग़
मंै तेरे होठां 'चों किर्या ज़िकर हां

इक 'कल्ली मौत है जिसदा इलाज
चार दिन दी ज़िन्दगी दा फ़िकर हां

जिस ने मैनूं वेख के ना वेख्या
मै उहदे नैणां दी गुंगी नज़र हां

मैं तां बस आपना ही चेहरा वेखिऐ
मैं वी इस दुनियां च कैसा बशर हां

कल्ल्ह किसे सुण्या है 'शिव' नूं कहन्द्यां
पीड़ लई होया जहां विच नशर हां ।

33. दिल ग़रीब

अज्ज फेर दिल ग़रीब इक पांदा है वासता
दे जा मेरी कलम नूं इक होर हादसा

मुद्दत होयी है दरद दा कोयी जाम पीत्यां
पीड़ां च हंझू घोल के दे जा दो आतशा

काग़ज़ दी कोरी रीझ है चुप्प चाप वेखदी
शबदां दे थल च भटकदा गीतां दा काफ़ला

टुरना मैं चाहुन्दा पैर विच कंडे दी लै के पीड़
कुक्ख तों कबर तक दोसता जिन्ना वी फ़ासला

आ बहुड़ 'शिव' नूं पीड़ वी है कंड दे चल्ली
रक्खी सी जेहड़ी ओस ने मुद्दत तों दाशता

34. मेरे नामुराद इश्शक दा

मेरे नामुराद इश्शक दा कहड़ा पड़ा है आया
मैनूं मेरे 'ते आप ते ही रह रह के तरस आया

मेरे दिल मासूम दा कुझ हाल इस तर्हां है
सूली 'ते बेगुनाह ज्युं मरियम किसे दा जायआ

इक वकत सी कि आपणे, लगदे सी सभ पराए
इक वकत है मैं ख़ुद लई अज्ज आप हां परायआ

मेरे दिल्ल दे दरद दा वी उक्का ना भेत चल्ल्या
ज्युं-ज्युं टकोर कीती वध्या सगों सवायआ

मैं चाहुन्द्या वी आप नूं रोणों ना रोक सक्या
आपणां मैं हाल आप नूं आपे जदो सुणायआ

कहन्दे ने यार 'शिव' दे मुद्दत होयी है मर्या
पर रोज़ आ के मिलदै अज्ज तीक उस दा सायआ

35. रात गई कर तारा तारा

रात गई कर तारा तारा
होया दिल दा दरद अधारा

रातीं ईकन सड़्या सीना
अम्बर टप्प ग्या चंग्याड़ा

अक्खां होईआं हंझू हंझू
दिल दा शीसा पारा पारा

हुन तां मेरे दो ही साथी
इक हौका इक हंझू खारा

मैं बुझे दीवे दा धूंआं
किंझ करां तेरा रौशन दुआरा

मरना चाहआ मौत ना आई
मौत वी मैनूं दे गई लारा

ना छड्ड मेरी नबज़ मसीहा
ग़म दा मगरों कौन सहारा

36. शहर तेरे तरकालां ढलियां

शहर तेरे तरकालां ढलियां
गल लग्ग रोईआं तेरियां गलियां

यादां दे विच मुड़ मुड़ सुलगण
महन्दी लगियां तेरियां तलियां

मत्थे दा दीवा ना बल्या
तेल तां पायआ भर भर पलियां

इशक मेरे दी साल-गिर्हा 'ते
इह किस घल्लियां कालियां कलियां

'शिव' नूं यार आए जद फूकण
सितम तेरे दियां गल्लां चलियां

37. जद वी तेरा

जद वी तेरा दीदार होवेगा
झल्ल दिल दा बीमार होवेगा

किसे वी जनम आ के वेख लवीं
तेरा ही इंतज़ार होवेगा

जिथे भज्ज्या वी ना मिलू दीवा
सोईउ मेरा मज़ार होवेगा

किस ने मैनूं आवाज़ मारी है
कोयी दिल दा बीमार होवेगा
इंञ लग्गदा है 'शिव' दे शिअरां 'चों
कोयी धुख़दा अंगार होवेगा

38. तूं विदा होइउं

तूं विदा होइउं मेरे दिल ते उदासी छा गई
पीड़ दिल दी बून्द बण के अक्खियां विच आ गई

दूर तक मेरी नज़र तेरी पैड़ चुंमदी रही
फेर तेरी पैड़ राहां दी मिट्टी खा गई

तुरन तों पहला सी तेरे जोबन ते बहार
तुरन पिच्छों वेख्या कि हर कली कुमला गई

उस दिन पिच्छों असां ना बोल्या ना वेख्या
इह ज़बां खामोश हो गई ते नज़र पथरा गई

इशक नूं सौगात जेहड़ी पीड़ सैं तूं दे ग्युं
अंत उहीउ पीड़ 'शिव' नूं खांदी खांदी खा गई

39. महान मनुक्ख

(नलनीबाल देवी दी
आसामी कविता दा रूपांतर)

हे सच्च दे अणथक्क राही
तेरियां पैड़ां देन गवाही
तूं ज़िन्दगी दे लंमे राह दी
चिर-बुस्सी मुड़ धरती वाही
तूं ही लगन नूं मंथन कर के
भाईचारे दी उंगली फड़ के
इस धरती दे जायआं ताईं
अगन शबद दी कथा सुणाई
महां-मुकती दी गल्ल समझाई

हे महां मानव !
उह तूहीउं सैं
जिस ने सभ तों पहली वारी
चुप्प संग तिड़के
मूक लबां दी
ते दुख्यारे दीन दिलां दी
सदा अबोले बोलां वाली
ग़म विच डुब्बी वाज सुणाई
ते उस चुप्प नूं जीभा लाई
आज़ादी दी तूं हर दिल विच
अलख जगाई

तूं मुकती दी बानी गाई
ते कुल दबी दलित लुकाई
डूंघी नींद झून जगाई
ते उह तेरे दुआरे आई

हे दानशवर !
तूं इस मानव दे जीवन दे
अजब नवें कुझ अरथ ने कढ्ढे
तेरे विचों अहंसा दा
रसता आपनी मंज़ल लभ्भे
ते इहदी फ़तह यकीनी लग्गे

हे युग्ग द्रशटा !
तूं ही जाग रहे भारत नूं
नव सम्यां दे नव राह दस्से
हन्दी रलके मौत 'ते हस्से
तेरे इस हथ्यार दे साहवें
सारे ज़ुलम तशद्दद नस्से
खिड़े रिदे आ पिड़ विच नच्चे

लक्ख जीवन ख़ुशबोईआं अट्टे
लक्ख हिरदे नश्यां विच मत्ते
पैर कई सदियां दे पच्छे
तूं उन्हां 'ते फेहे रक्खे
लक्ख अक्खियां दे हंझू रत्ते
तूं ही पूंझे तूं ही झट्टे
तूं हर इक दे बंधन कट्टे

अनहद नाद दिलां विच गूंजे
ते सदियां दे हंझू पूंझे
गौरव याद आया मुड़ हिन्द नूं
सुत्ते पिता पुरख मुड़ ऊंघे
हे महातमा !
सच्च दे जोगी
तेरे कज्जे बोलां विचों
हन्दी दी महां पिता पुरखी दी
चेतनता ते गौरव झाके
बीत गए दी शान व्याखे

हे इस युग्ग दे युग्ग अवतार
तूं इस कौम नूं करके प्यार
दित्ती है हर रूह टुणकार
ते उह बख़शी है महकार
जिस नूं मौत ना सके मार
तेरी मेहर मुहब्बत साईआं
है हिन्दियां ते अपरमपार
आज़ादी दे पूजणहार ए हिन्दियां दे दिल दातार
हे इस देश दे पराण-आधार
सदा समें नूं याद रहेगा
हर दिल ते तेरा उपकार
तूं साडे दिल दा तख़त हो बैठा
ते असीं रहे हां मोती वार
हे इस युग्ग दे अवतार
नमसकार होए नमसकार !!
(नोट:- 'आरती' रचना की कवितायें नं: 9,14,
20,24,25,27,29 और 30 ;'बिरहा तू सुलतान' में
भी शामिल हैं)

 
 
 Hindi Kavita