परंतप मिश्र

परंतप मिश्र (०१-०८-१९७३- ) का जन्म उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में इब्राहिमपुर गाँव में शिक्षित, सुसंस्कृत और समृद्ध परिवार में पिता श्री सोमेश्वरनाथ मिश्र व माता श्रीमती गायत्री मिश्रा के यहाँ हुआ। साहित्य में रुचि विरासत में मिली, पिता बैंक अधिकारी थे और तबादले हुआ करते थे अतः प्राम्भिक शिक्षा कोलकाता से और उत्तरप्रदेश में इलाहबाद से स्नातक एवं परास्नातक की शिक्षा प्राप्त हुई। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कुछ समय दिया और फिर नौकरी की और अंत में व्यापार करने लगे। सन २००४ से अब तक दुबई में व्यापार के साथ-साथ साहित्य और समाज सेवा के लिए कई देशों की यात्रा करते हैं, देश भक्ति और साहित्य के साथ भारतीयता को हमेशा जीवित रखा है। उनकी रचनाएँ हिंदी और इंग्लिश में हैं पूरे विश्व में पसंद की गयी और मुख्यतः फ्रेंच, इटेलियन,स्पेनिश एवं फिनिश भाषा में अनुवादित की गयी हैं। उनका प्रकाशित साहित्य : अंतर्यात्रा (काव्य संग्रह), विचार-प्रवाह (गद्य चिंतन) है।


अंतर्यात्रा परंतप मिश्र

नव जीवन
प्रेम धारा
मेरे विचार मेरे मित्र
स्वप्न पुष्प
मानव विकास
चंदा मामा
पुष्प वाटिका
तुम्हारी ओर
मेरे चिर मित्र !!
वरदान
अंकुरण
मैं सुनता हूँ
अव्यक्त गीत
यात्रा
ओढ़नी प्रेम की
नयन बसेरा
एकाकीपन
अद्वैत
क्षितिज के पार
स्वप्न-मीत
स्मृतियों का गाँव
नव प्रभात !
आँसू मेरी लहरों के
मेरे शब्द - मेरे बच्चे
कसक
यात्रा के पड़ाव
स्मृति
परिणति
प्रयाण
बादल
विहान
जल और जीवन
गुलदस्ता
मेरी कविताएँ
पाती
अवतरण
मैं तेरे सपनों में आऊँ
आत्म बोध
अमर प्रेमी
संदेश
आत्मिक मित्र
हौसला बहोत है-
पतझड़
संतुलन
उपलब्धि
महामारी
गुलाब
मैं मजदूर हूँ
 
 
 Hindi Kavita