करन कोविंद
Karan Kovind
 Hindi Kavita 

करन कोविंद

करन कोविंद (2 अगस्त 2002-) का जन्म प्रयागराज के मादपुर ग्राम में हुआ। उनके पिता कमलेश कुमार और माता रेखा देवी हैं । वह बचपन से हिन्दी पुस्तकों के प्रति आकर्षण रखते थे और हिन्दी में रुचि के कारण उनमें साहित्य के प्रति एक संवेदना उत्पन्न हुयी और तभी से लिखना प्रराम्भ कर दिया। दस वर्ष की आयु से लिखना आरम्भ करके आज भी उनका लिखना जारी है। उनकी किताब 'आत्मा चित्रांकनी' प्रकाशित हो चुकी है ।


करन कोविंद हिन्दी कविता

शांत
वल्लरियां सिहर रही है
रजनी
दीपोत्सव
दीप
तू चल गया आगे
खींच लूं पैर कि मींज लू आंखें
स्वप्न
विमर्श
विवेचना
स्नेह
मधुगान
मानस
जीवन
बहाव
बांसुरी
मधुमय यौवन लौटा दो
दुःख
समय
बीत रे गयी निशी
नीरव गान
बादल
गीत
नवोन्मेष
झील
ज्योति
इन्द्रधनुष
छाये रे बादल
लहरी
बदरी
 
 
 Hindi Kavita