अमित सिंह
Amit Singh
 Hindi Kavita 

अमित सिंह हिन्दी कविता

प्यार से जो जिये, प्यार के ही लिये
अपने ही पीछे सारी दुनिया भागे किस लिए
गीत - तुम
भोजपुरी निरगुण गीत - पियवा कवने नगरिया
भोजपुरी निरगुण गीत - एक दिन त टुटबे करीहैं
नजर से नजर को मिला गया कोई
 
 
 Hindi Kavita