सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
Suryakant Tripathi Nirala
 Hindi Kavita 

Asanklit Kavitayen Suryakant Tripathi Nirala

असंकलित कविताएँ सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला

1. रचना की ऋजु बीन बनी तुम (गीत)

रचना की ऋजु बीन बनी तुम ।
ऋतु के नयन, नवीन बनी तुम ।

पल्लव के उर कुसुम-हार सित,
गन्ध, पवन-पावन विहार नित,
मिलित अन्त नभ नील विकल्पित,
एक-एक से तीन बनी तुम ।
रचना की ऋजु बीन बनी तुम ।

चपल बाल-क्रीड़ा अब अवसित,
यौवन के वन मदन नहीं श्रित,
प्रौढ़ प्राण से शाश्वत विगलित,
तुम जानो, कब लीन बनी तुम ।
रचना की ऋतु बीन बनी तुम ।

2. मेघ मल्लार (1)

अयि सजल-जलद-बदने !
सुख-सदने, सुख-सदने !

तुम हहर-हहरकर हर-हरकर
बहती हो सर-सर पहर-पहर
भरती हो जीवन अजर-अमर
सित हंसपंक्ति-रदने !

सहज सरोरुह के वन विकसित
मानसरोवर पर जब सुहसित,
सिन्धु-ब्रह्मपुत्रादि उल्लसित,
नदि-नद मद-मदने ।

3. मेघ मल्लार (2)

श्याम घटा घन घिर आयी।
पुरवायी फिर फिर आयी।

बिजली कौंध रही है छन-छन,
काँप रहा है उपवन-उपवन,
चिडियाँ नीड़-नीड़ में नि:स्वन,
सरित-सजलता तिर आयी।

गृहमुख बून्दों के दल टूटे,
जल के विपुल स्रोत थल छूटे,
नव-नव सौरभ के दव फूटे,
श्री जग-तरु के सिर आयी ।

4. उमड़-घुमड़-घन (गीत)

उमड़-घुमड़-घन
सावन आये।
मन-मन के
मनभावन आये ।

मोर शोर करते हैं वन में,
नाच रहे हैं फिर निर्जन में,
दादुर की रट भी छन-छन में,
विपुल-बलाक की धावन आये ।

बूंदों की रिमझिम फुहार है,
पवन-अवनि, फिर-फिर बुहार है,
खगकुल की पुलकित गुहार है,
पुर के पाहुन पावन आये।

5. छाये बादल काले काले (गीत)

छाये बादल काले काले ।
मँडलाये, आये, मतवाले।

फुफकारें फुहार विष की हैं,
सन-सन धुन सुनिए रिस की हैं,
रैन विरहिनी की सिसकी हैं,
दिन आँसू के नाले नाले ।

लहरों की बहरें भगती हैं,
उर-उर छवि-छवि से जगती हैं,
दिन को सपने-सी लगती हैं,
कितने सुख के पाले पाले ।

6. रस की बूंदें बरसो (गीत)

रस की बूंदें बरसो,
नव घन !
पावन सावन सरसो,
नव घन !

कमलों के वन वारि-विमोचन,
छा लो गगन बलाहक-वाहन,
धान-जुवार-उड़द, अरहर-धन
धारन कर कर हरसो, नव घन !

खेत निराती ग्राम-कामिनी
नभ-नयनों दमकती दामिनी
लखकर लौटी वास भामिनी,
सुख-समीर तन परसो, नव घन !

7. बिजली का जीवन

जावक चरणों से जब शिंजन
होता है गृह के रुचिरांगन
कंपते हैं तरु तरुणों के तन ।

छुटकर सम्पुट से कोटि सुमन
भर देते हैं केशर के कण
आर्द्रा के छा जाते हैं घन,
ढक जाता है नैदाघ तपन ।

स्वर से होता है सन्दीपन,
बनता है बिजली का जीवन,
बुझ-बुझकर होता है चेतन,
तम से जैसे रज, संवेदन ।

8. सौरभ के रभस बसो, जीवन (गीत)

सौरभ के रभस बसो, जीवन !
वारिद की बूंद खसो, जीवन !

केशर के शर स्वप्निल उपशम
वेधो ऊषा के प्रस्फुट क्रम;
सोओ मलयानिल के विभ्रम,
दल के कर कमल कसो, जीवन !

भौरों के मदगंजित गुंजन
गाओ वन-वन उपवन-उपवन
छाओ नभ सुमन-सुमन कण-कण
भरकर तट सुघट गसो, जीवन !

9. क्यों निर्जन में हो (गीत)

क्यों निर्जन में हो?
नवजीवन, अविकच तन ;
भ्रमितानन से ओ !

नयन तुम्हारे नये नये,
छोर छोड़कर चले गये,
किसे खोजते ये उनए ?
एक बार देखो !

अब न किसी के तुम होगे ?
साथ किसे अब तुम दोगे ?
हाथ किसी का न गहोगे ?
बात भी हमें दो !

10. वन्दना

वन्दन करूँ चरण,
जननि, हो भाव की
भूमि पर अवतरण !

विमल पलकें खुलें
मोह के पटल से,
कमल जैसे नयन
तुलें ज्योतिर्हसे,
देश दश दिशावधि
कटे कारावरण !

स्तव के स्तवक, वर्ण-
रेणु के, शरण के,
स्रोत पर बह चलें
जन्म के, मरण के;
पृथा पर अमृत का
क्षार से हो क्षरण !

11. शरत् पंकजलक्षणा

सखी री, खंजन वन आये;
सरसीरुह छाये !

हरसिंगार के हार पड़े हैं ;
शशि के मुख असि-नयन गड़े हैं ;
पहरे शाल रसाल खड़े हैं ;
तारक मुसकाये ।

धान पके, सोने की बाली ;
पानी भरी अगहनी आली;
छाई बाजरे की नभ लाली;
कास-कुसुम भाये ।

 
 
 Hindi Kavita